रोहतास की बेटी को सांस की बीमारी ने बनाया योगगुरु, अब विदेशियों को भी सीखा रही योगा के गुर

प्रेरणादायक

रोहतास की बेटी पुष्पांजलि योग के माध्यम से समाज को सबल बनाने में जुटी है। पुष्पांजलि समाज में भटके बच्चों को योग के जरिए सबल और स्वस्थ बनाने में जुटी हैं। गर्भवती महिलाओं को योग के जरिए सामान्य प्रसव करवाने में पुष्पांजलि को महारत हासिल है। विदेशों में ट्रेनिंग देती हैं। इस बार जर्मनी में योग सिखाने का ऑफर मिला है, जहां वो जा रही है। इसके अलावे फिल्मी दुनिया में भी पुष्पांजलि की पैठ है।

पुष्पांजलि एक योग सूत्र संस्था की मदद से उन बच्चों को योग की ट्रेनिंग देती है। जो समाज में भटक गए है। बाल संप्रेषण गृह में उन बच्चों को योग टिप्स देती है। जिससे बच्चे स्वस्थ रहकर जीवन को खुशमय बना सके। साथ ही गांव के बच्चों को कैंप लगाकर योग करना और उसके लाभों को बताती है। उनका कहना है कि जब इंसान स्वस्थ्य और खुशहाल रहेगा तभी समाज सुदंर बनता है। योग तन मन दोनों को खुबसूरत बनाता है। पुष्पांजलि महिलाओं को भी योग सिखाती हैं। उन्होंने बताया गर्भवती महिलाओं को योगभ्यास कराती गर्भवस्था में महिलाओं को कमर दर्द की ज्यादा शिकायत रहती है और कई महिलाओं को प्रसव कराने में ऑपरेशन करना पड़ता है उन महिलाओ को समान्य प्रसव कराने के लिए योग कराती है। जिसमें सेतु बंध आसन सहित कई तरह के आसन है।

पुष्पांजलि फाइव स्टार होटल ताज में आने वाले पर्यटकों को योगा सिखाती है। इसके अलावा जर्मेनी, अमेरिका, पुर्तगाल, थाइलैड़ और ब्रिटेन के पर्यटको को योगा सिखाया और इनमें कई देशों में गई है। फिल्म दुनिया के डायरेक्टर अनुराग कश्यप फिल्म की शूटिंग बनारस कर रहे थे, तब पुष्पांजलि ने फिट रहने के लिए योगा का ट्रेनिंग दी। जहाँ जिम्मी शेरगिल और रवि किशन ने भी फिजिकल ट्रेनिग लिया।

 

पुष्पांजलि आईएएस बन कर देश सेवा करना चाहती थी। लेकिन सास की कैंसर ने योगा फिजियो ट्रेनर और योग गुरु बना दिया। 10 मार्च 1999 को जैनपुर के रहने वाले अजय कुमार शर्मा से शादी हो गई। इसके बाद दोनों बनारस के बड़ा लालपुर में रहने लगे। पुष्पांजलि ने बीए और एमए की पढ़ाई गोरखपुर से पूरा किया। इनके पति अजय गोरखपुर में एवबीएस कॉलेज में शिक्षक पद पर कार्यरत हो गये। साल 2003 में उनकी सास की हालत खराब हो गई चार महीने तक वे बीएचयू स्थित सुंदरलाल अस्पताल में कैंसर डिपार्टमेंट मे रही। यहां लोगो को तड़पते देखा तो उसी दौरान मन में ठान लिया कि लोगों को स्वस्थ करना है। इसके बाद ही लोगों को योगा सिखाना शुरू कर दिया। केरला से योगा में डिप्लोमा किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.