बिहार में कल से दिखेगा यास तूफान का असर, 26 मई को भारी बारिश के आसार

खबरें बिहार की

पटना: बंगाल की खाड़ी में बना कम दबाव का क्षेत्र सोमवार को तूफान ‘यास’ में तब्दील हो चुका है। अब यह तूफान उत्तर-पश्चिम की ओर आगे बढ़ रहा है। करीब 24 घंटे बाद मंगलवार से इसका प्रभाव देश के मैदानी इलाकों में दिखाई देने लगेगा। इसके 26 मई को पश्चिम बंगाल व ओडिशा के समुद्र तटों से टकराने की आशंका है। इस तूफान के साथ देश के मैदानी भागों में आंधी के साथ जमकर बारिश होगी। बिहार-झारखंड में भी भारी बारिश होने के आसार हैं।

पटना मौसम विज्ञान केंद्र के वैज्ञानिकों के अनुसार बंगाल की खाड़ी के अंडमान सागर में वर्तमान में कम दबाव का क्षेत्र बन गया है। वह तूफान में तब्दील होकर उत्तर-पश्चिम दिशा में आगे बढ़ेगा। मंगलवार को बंगाल की खाड़ी के उत्तरी भाग में तूफान के खतरनाक होने की उम्मीद है। उसके बाद 26 मई को तूफान ओडिशा के समीप समुद्री तट से टकराकर आगे बढ़ेगा। वैसे सोमवार से उसका प्रभाव देश के मैदानी भाग में दिखाई पड़ने लगेगा।

बंगाल की खाड़ी में कम दबाव का क्षेत्र बनने से देश में मैदानी भाग में पछुआ का प्रवाह जारी है। पछुआ की धीमी गति के कारण राजधानी समेत प्रदेश के वातावरण में उमस बढ़ गई है। तापमान निरंतर बढ़ रहा है। राजधानी पटना के तापमान में रविवार को दो फीसदी वृद्धि दर्ज की गई। रविवार को शहर का अधिकतम तापमान 37.8 डिग्री सेल्सियस रहा। शनिवार को शहर के तापमान में तीन डिग्री की वृद्धि दर्ज की गई थी। वातावरण में आर्द्रता घटकर मात्र 44 फीसद रह गई है। भागलपुर सर्वाधिक गर्म स्थान रहा। यहां अधिकतम तापमान 38.2 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया। भागलपुर के वातावरण में आर्द्रता 59 फीसद रिकॉर्ड की गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *