पटना के नजारे गंगा नदी के किनारे बसा पटना बिहार की राजधानी है. प्राचीन भारत में इसे पटलिपुत्र के रूप में जाना जाता था, पटना सिख भक्तों के लिए एक प्रमुख तीर्थ है क्योंकि इनके अंतिम सिख गुरु, गुरु गोबिंद सिंह का जन्मस्थान माना जाता है. नंद, मौर्य, शुंग, गुप्ता और पाल की अवधि में इस शहर को पूरे भारत में प्रसिद्धि मिली. पटना में पर्यटकों के आकर्षण का प्रमुख केंद्र बिहार संग्रहालय, गोलघर, कुम्हरार, किला हाउस, शहीद स्मारक, बुद्ध स्मृति पार्क, हनुमान मंदिर, बड़ी पटन देवी, अगम कुआं प्रमुख हैं.

गया में क्या है राजधानी पटना से 100 किलोमीटर दूर बोधगया गया जिले से सटा एक छोटा शहर है. बोधगया में बोधि पेड़़ के नीचे तपस्या कर रहे भगवान गौतम बुद्ध को ज्ञान की प्राप्ति हुई थी. बौद्ध धर्म के अनुयायियों के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है. वर्ष 2002 में यूनेस्को द्वारा इस शहर को विश्व विरासत स्थल घोषित किया गया. इसके अलावा गया में विष्‍णुपद मंदिर भी प्रमुख है दंतकथाओं के अनुसार भगवान विष्णु के पांव के निशान पर इस मंदिर का निर्माण कराया गया है. यहां का पितृपक्ष मेला देश और दुनिया में काफी मशहूर है. यहां फल्गु नदी के किनारे पर पिंडदान करने से मृत व्यक्ति को बैकुण्ठ की प्राप्ति होती है.

वैशाली का महत्व यहां विश्व का सबसे पहला गणतंत्र कायम किया गया था. वैशाली भगवान महावीर की जन्म स्थली होने के चलते जैन धर्म के मतावलम्बियों के लिए एक पवित्र नगरी है. वैशाली में अशोक स्‍तम्भ, बौद्ध स्‍तूप, विश्व शांति स्तूप पर्यटकों के आकर्षण का प्रमुख केंद्र है.

राजगीर की खूबसूरती सात पहाड़ियों से मिलकर बना है राजगीर. इन तीनों धर्मों का तीर्थ बन जाता है. राजगीर के प्रसिद्द पर्यटकों के आकर्षण का प्रमुख केंद्र सोन भंडार ,मगध राजा जरासंध का अखाड़ा , गर्म जल के कुण्ड. यहां की साफ सफाई और स्वच्छता बिहार के बाकी शहरों की तुलना में काफी अच्छी है. विश्व शांति स्तूप यहां गौतम बुद्ध ने सैकड़ों वर्ष पहले अपने अनुयायियों को सिख दी थी.

सीतामढ़ी में भक्ति की शक्ति भारत के मिथिला का प्रमुख शहर है जो पौराणिक आख्यानों में माता सीता की जन्मस्थली के रूप में जानी जाती है. मान्यता है कि खेत में हल जोतते वक्त माता सीता राजा जनक को मिली थी. सीता जी के जन्म के कारण इस नगर का नाम सीतामढ़ी पड़ा. सीतामढ़ी के प्रमुख पर्यटन स्थल जानकी स्थान मंदिर, उर्बीजा कुंड, हलेश्वर स्थान, पंथ पाकड़ , बगही मठ प्रमुख हैं.

नालंदा विश्वविद्यालय विश्व प्रसिद्ध नालंदा विश्‍वविद्यालय भारत ही नहीं दुनिया में एक एक गौरव था. नालंदा दुनिया भर में प्राचीन काल में सबसे बड़ा अध्ययन का केंद्र था. दुनिया भर के छात्र यहाँ पढाई करने आते थे .चीनी यात्री हेनसांग ने नालंदा विश्वविद्यालय में बौद्ध दर्शन, धर्म और साहित्य का अध्ययन किया था. लेकिन 12वीं सदी में बख्तियार खिलजी ने आक्रमण करके इस विश्वविद्यालय को नष्ट कर दिया.

वाल्मीकि नेशनल पार्क वाल्मीकि नेशनल पार्क चंपारण में शिवालिक पर्वत श्रेणी के बाहरी सीमा में स्थित है. यहां हर ओर हरियाली है. वाल्मीकि राष्ट्रीय उद्यान बिहार का प्रमुख पर्यटन स्थल है. यह पार्क उत्तर में नेपाल के रॉयल चितवन नेशनल पार्क और पश्चिम में हिमालय पर्वत की गंडक नदी से घिरा हुआ है. यहां पर बाघ, भेड़िए, हिरण, सीरो, चीते, अजगर, पीफोल, चीतल, सांभर, नील गाय, हाइना, हॉग डीयर, जंगली कुत्ते, एक सींग वाले राइनोसिरोस और भारतीय भैंसे इस उद्यान में देखे जा सकते हैं.

Source: Etv Bihar

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here