गजब: सफाई करने के लिए खुद ही गटर में घुस गए जिला कलेक्टर, नज़ारा देख दंग रह गए अधिकारी

जागरूकता

पटना: हमारे देश में न तो भ्रष्ट नेताओं की कमी है, न भ्रष्ट अधिकारियों की कमी है। लेकिन इस बात का ये मतलब बिल्कुल भी नहीं है कि हमारे देश में ईमानदार, नेक, कर्मठ अधिकारियों की कोई कमी है।

दरअसल तेलंगाना के एक ऐसे अधिकारी की एक तस्वीर आई जिसे देखने के बाद आप अपनी जगह पर खड़े होकर अधिकारी को सैल्यूट मारने से नहीं कतराएंगे। के. धर्मा रेड्डी नाम के ये शख्स तेंलगाना के मेदक जिले के डिस्ट्रिक्ट कलेक्टर हैं।

अभी हाल ही में रेड्डी साहब ने कुछ ऐसा कर दिखाया, जिसकी न तो किसी ने उम्मीद की थी और न ही कल्पना। रेड्डी साहब के इस काम को देखकर देश भर के अधिकारियों में खलबली मच गई है। खलबली मचने के पीछे एक जायज़ वजह भी है। जो आपको खबर पढ़ते-पढ़ते सब कुछ समझ में आ जाएगा।

महाराष्ट्र के पुणे में कुछ ही दिनों पहले ‘स्वच्छ भारत अभियान’ के बैनर तले खुले में शौच की रोकथाम के लिए एक खास तरह की कार्यशाला का आयोजन किया गया था।

पुणे में आयोजित हुई इस कार्यशाला में मेदक ज़िले के डिस्ट्रिक्ट कलेक्टर के. धर्मा रेड्डी कर्मचारियों को प्रशिक्षण देने के लिए खुद ही एक गंदे गड्ढे में चले गए। इस दौरान रेड्डी ने न तो किसी प्रकार का कोई ग्लव्ज़ पहना था और न ही गड्ढे में जाने में उन्हें किसी प्रकार की आपत्ति हुई।

इतना ही नहीं रेड्डी ने गड्ढे में घुसकर अपने हाथों से ही सफाई भी की। ये नज़ारा देख वहां मौजूद अन्य सभी अधिकारी दंग रह गए। उन्हें अपनी आंखों पर विश्वास ही नहीं हो रहा था कि एक ज़िला कलेक्टर सफाई के लिए गड्ढे में जा भी सकता है।

पुणे में आयोजित की गई इस प्रयोगशाला में मुख्यरूप से मानव मल से प्राकृतिक खाद बनाने के लिए ही की गई थी। रेड्डी ने पहले तो कर्मचारियों को पूरी प्रक्रिया के बारे में अच्छे से समझाया और फिर उन्हें काम दिखाने के लिए अंदर चले गए। रेड्डी ने गड्ढे से खाद बाहर निकाल कर बाहर इकट्ठा भी किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.