मजदूर ने 200 रुपए उधार लेकर खरीदा था लॉटरी टिकट, जीता 1.5 करोड़

कही-सुनी

कहते है ‘देने वाला जब भी देता छप्पर फाड़ के…’ यह कथन एक बार फिर से पंजाब में सही साबित हुआ है. यहां एक मजदूर को डेढ़ करोड़ रुपए की लॉटरी लगी है. इससे भी ज्यादा हैरान करने वाली बात यह है कि इस मजदूर ने उधार लेकर लॉटरी का टिकट खरीदा था. मजदूर के इतने सारे रुपए जीतने की खबर पूरे इलाके में आग की तरह फैल गई है. पहली बार में तो लोगों के लिए इस पर विश्वास करना मुश्किल हो रहा है, लेकिन इस सच्चाई को जानकर लोग हतप्रभ हैं.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक पंजाब के संगरूर जिले में मनोज कुमार नाम का शख्स मजदूरी करके अपना और परिवार का पेट पालता है. वह पेशे से भले ही मजदूर है, लेकिन वह हमेशा अमीर बनने के सपने देखता रहता था. फिल्में देखकर उसने मान लिया कि लॉटरी में पैसे जीतकर वह अमीर बन सकता है. यह सोचकर वह लंबे समय से लॉटरी के टिकट खरीदता था. पिछले दिनों उसे पता चला कि पंजाब राज्य राखी बंपर 2018 प्रतियोगिता लॉटरी होने वाली है. यह पता चलते ही उसने ठान लिया कि वह इस लॉटरी के टिकट खरीदेगा.

मजदूर मनोज के पास इस लॉटरी के टिकट खरीदने के पैसे नहीं थे. लॉटरी का टिकट खरीदने की आखिरी तारीख आ चुकी थी. पैसे की तंगी के चलते पहले तो मनोज ने सोचा कि वह लॉटरी के टिकट नहीं खरीदेगा. अचानक उसके मन में लॉटरी टिकट को लेकर उत्सुकता जाग गई. अपनी उत्सुकता को शांत करने के लिए मनोज ने अपने एक दोस्त से किसी और काम के नाम पर 200 रुपए उधार लिए. फिर इस उधारी के पैसों से उसने लॉटरी के टिकट खरीद लिए. उसे क्या पता था कि यह लॉटरी का टिकट उसे मालामाल बना देगी.

पंजाब राज्य राखी बंपर 2018 प्रतियोगिता लॉटरी के विजेताओं की घोषणा हुई तो पता चला कि मजदूर मनोज ने जो टिकट लिया था वह नंबर एक इनाम के लिए चुना गया है. यह बात सुनकर मनोज हैरान रह गया. उसे पता चला कि वह लॉटरी में डेढ़ करोड़ की रकम जीत चुका है.

पंजाब राज्य राखी बंपर 2018 प्रतियोगिता लॉटरी के प्रवक्ता ने बताया कि मनोज बुधवार लॉटरी के डायरेक्टर टीपीएस फुलका से मिले और अपना दावा पेश किया. डायरेक्टर ने उन्हें आश्वासन दिया की पेमेंट जल्द से जल्द किया जाएगा. लॉटरी के लकी ड्रॉ की घोषणा 29 अगस्त को हुई थी. इसी के साथ यह खुलासा हुआ था कि 1.5 करोड़ रुपये के पहले दो इनाम दो टिकट होल्डर को दिए जाएंगे, जिसमें मनोज भी शामिल हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.