आंगनबाड़ी से कारबाइन और स्कूल से शराब बरामद

जानकारी

पटना: गोरीगामाडीह गांव में तीन थानों की गाड़ी को एक साथ देख हरकंप मच गई। उत्पाद अधीक्षक के नेतृत्व में पहुंची पुलिस ने सबसे पहले स्कूल में छापेमारी की। मध्य विद्यालय गोरीगामाडीह के पीछे तालाब के पास बन रहे भवन से एक हजार शराब की खाली बोतल, ढक्कन व रैपर, शराब बनाने के लिए रखी गई 35 लीटर ्प्रिरट, कलर व अन्य उपकरण बरामद की। उसके बाद निर्माणाधीन भवन के बगल में स्थित मनरेगा भवन में छापेमारी की गई। वहां से पुलिस ने करीब 30 कार्टन विदेशी शराब समेत अन्य समान बरामद किया गया।

उसके बाद पुलिस बगल में निर्मित आंगनबाड़ी भवन में छापेमारी की। वहां से बोरे में भरकर रखी गई दस पेटी से अधिक विदेशी शराब व चार कार्टन केन बियर बरामद किया। साथ ही केन्द्र में एक बैग मिला, जिसमें एक कारबाइन, एक देशी कट्टा, 15 जिंदा कारतूस मिला। छापेमारी के दौरान पुलिस ने स्कूल के एक शिक्षक नीरज कुमार व विद्यालय के रसोइया श्याम किशोर शाही को बुलाकर पूछताछ की। पूछताछ के बाद पुलिस ने शिक्षक व रसोइया से जब्ती सूची पर हस्ताक्षर करवाया। इसके बाद बरामद दोनों बाइक को सरैया पुलिस, बरामद हथियार व कारतूस को तुर्की ओपी पुलिस व शराब, बियर व शराब बनाने की सामग्री को उत्पाद विभाग अपने साथ ले गई। इससे वरीय अधिकारियों को अवगत कराया गया।

कुढ़नी बैंक लूट में भी कारबाइन का हुआ था इस्तेमाल

सरैया से बरामद कारबाइन व अन्य अथियार को तुर्की ओपी की पुलिस अपने साथ ले गई है। इसको लेकर तरह-तरत के कयास लगाए जा रहे हैं। कुढ़नी थानेदार सूर्यशेखर सिंह ने बताया कि सकरी सरैया में बैंक ऑफ इंडिया में हुई लूट की घटना में अपराधियों ने कारबाइन का इस्तेमाल किया था। मामले की जांच अभी चल रही है। वहीं थानेदार ने सरैया में बरामद कारबाइन के संबंध में अभी कुछ भी बताने से इनकार किया है। हालांकि चर्चा है कि तुर्की पुलिस ने बरामद कारबाइन को इसी मामले में जांच के लिए ले गई है।

माफियाओं के खौफ के कारण नहीं हो रही थी शिकायत

सरकारी भवनों में भारी मात्रा में शराब व हथियार बनाने की सामग्री मिलने से सरकारी महकमा घेरे में है। दूसरे लोग माफियाओं के डर से मुंह नहीं खोल रहे थे। छापेमारी के बाद स्थल देखकर अधिकारियों ने बताया कि शराब माफिया पिछले काफी दिनों से तालाब किनारे निर्माणाधीन स्कूल भवन व अन्य भवनों को अपना ठिकाना बनाये हुए थे। शराब की खेप लाने और ले जाने के साथ साथ इन जगहों पर अवैध शराब के निर्माण के भी प्रयाप्त साक्ष्य मिले हैं। उत्पाद विभाग मामले की जांच कर रही है।

भवनों की जिम्मेदारी किसकी, होगी जांच

बीडीओ भृगुनाथ सिंह ने बताया कि मामले की जानकारी जुटाई जा रही है। मामला गंभीर है। स्कूल भवन तो निर्माणाधीन था। मनरेगा व आंगनबाड़ी केंद्र किसके जिम्मे था, इसकी जांच करायी जाएगी। जो भी दोषी होंगे उनके खिलाफ कार्रवाई होगी। वहीं मुखिया छोटन पासवान ने बताया कि भवन के कार्यकाल से पहले का है। उन्हें भवन की जिम्मेदारी नहीं सौंपी गई थी। वहीं शराब व हथियारों की जब्ती के बाद स्कूली बच्चों के अभिभावकों में दहशत है। लोगों ने जिला प्रशसासन से मामले की वरीय अधिकारियों से जांच कराने व कड़ी कार्रवाई की मांग की है।

Source: Muzaffarpur Now

Leave a Reply

Your email address will not be published.