व्हाइट टी क्या है और क्यों होती है यह चाय इतनी महंगी? जानें फैक्ट्स

जानकारी

चाय लवर्स को मसाला चाय बेहद पसंद होती है। खासतौर पर बारिश के मौसम में चाय का स्वाद कुछ बढ़ जाता है। आपने कई तरह की चाय ट्राई की होंंगी लेकिन क्या आपने व्हाइट टी पी है? आपने इसके बारे में सुना तो जरूर होगा कि व्हाइट टी बहुत ही महंगी होती है। आइए, जानते हैं कि व्हाइट टी क्या है और क्यों होती है यह इतनी महंगी?

व्हाइट टी क्या है? 
चाय के पौधे, कैमेलिया सिनेंसिस की नई पत्तियों और कलियों को सही सफेद चाय बनाने के लिए सुखाया जाता है। यह चाय चीन से निकलती है और अब भारत में भी काफी पॉप्युलर हो रही है। इस पौधे की कलियों को शुरुआत में ही तोड़ा जाता है, जहां वे अभी भी बालों की तरह सफेद पंख से ढके रहते हैं और इस कारण इसका नाम ‘व्हाइट टी’ है। जल्दी तोड़े जाने की वजह से पत्तियों और कलियों को ऑक्सीकृत होने का मौका नहीं मिलता है क्योंकि जब वे तोड़ते हैं तो वे हवा में सूख जाते हैं, जिससे सफेद चाय कैमेलिया सिनेंसिस पौधे से बनी दूसरी सभी चायों में सबसे ताज़ी किस्म की चाय मानी जाती है। पत्तियों को किसी हीट ड्रायर से नहीं सुखाया जाता बल्कि इन्हें सूखने के लिए प्राकृतिक रूप से छोड़ दिया जाता है। जीरो आक्सीडाइस होनी की वजह से यह बहुत हेल्दी होती है।

सिल्वर व्हाइट टी और बाकी किस्में 
सिल्वर नीडल चाय चीन में उगाई जाने वाली सफेद चाय की सबसे प्रीमियम किस्म में से एक है। यह सफेद बालों से ढकी बड़ी कलियों से बनाई जाती है और इसलिए इसे ‘सिल्वर’ व्हाइट टी कहा जाता है। चांदी की सुई वाली चाय डाइजेशन सिस्टम के लिए बहुत अच्छी होती है। हार्ट बर्न, एसिडिटी और ऐंठन में यह चाय बहुत फायदेमंद है। इसी तह व्हाइट चाय में ही चाय की कई किस्में हैं, जिनमें दार्जिलिंग व्हाइट टी, ट्रिब्यूट आईब्रो व्हाइट टी, मंकी पिक्ड टी जैसी कई महंगी किस्में हैं।

 

इतनी महंगी होने की वजह 
वे जिस तरह से इस चाय की कटाई करते हैं, वह बाजार में उपलब्ध चाय की अन्य किस्मों की तुलना में इसे इतनी महंगी बनाती है। हालांकि सफेद चाय उसी पौधे से आती है, जहां से काली और हरी चाय निकलती है, लेकिन यह सफेद चाय की खेती की प्रक्रिया है, जो इसे बाकी हिस्सों से अलग बनाती है। इसकी फसल को उगाने और देखभाल की पूरी प्रक्रिया बहुत ज्यादा समय लेने वाली होती है क्योंकि इस चाय के उत्पादन में केवल छोटी कलियां और पत्तियां इस्तेमाल में लाई जाती है।  सफेद चाय की खेती करना काफी मुश्किल है, जिससे यह थोड़ी महंगी हो जाती है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.