कोरोना की तीसरी लहर कब ‘पीक’ पर होगी? वैज्ञानिकों ने बताया टाइम

खबरें बिहार की

Patna: कोरोना वायरस बीमारी की तीसरी लहर की पीक अक्टूबर के आसपास आ सकती है. इस बात का दावा केंद्रीय गृह मंत्रालय के तहत नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ डिजास्टर मैनेजमेंट की एक रिपोर्ट में किया गया है. प्रधानमंत्री कार्यालय (PMO) को सौंपी गई इस रिपोर्ट में डॉक्टरों, कर्मचारियों और वेंटिलेटर और एम्बुलेंस जैसे उपकरणों सहित बाल चिकित्सा सुविधाओं की गंभीर आवश्यकता के बारे में बात की है.

एनआईडीएम की इस रिपोर्ट में रॉयटर्स का हवाला देते हुए कहा गया है कि कोरोना की तीसरी लहर अक्टूबर में चरम पर रह सकती है. क्या कोरोना का डेल्टा प्लस वेरिएंट तीसरी लहर का जरिया बनेगा, इस बारे में रिपोर्ट में बताया गया है कि डेल्टा प्लस वेरिएंट B.1.617.2 के म्यूटेशन से बना है. B.1.617.2 कोरोना की दूसरी लहर के लिए जिम्मेदार था.

क्या डेल्टा वेरिएंट से ज्यादा खतरनाक है डेल्टा प्लस वेरिएंट?

रिपोर्ट में कहा गया है कि इस बात के पक्के सबूत नहीं है कि डेल्टा प्लस वेरिएंट डेल्टा वेरिएंट से ज्यादा खतरनाक है. 2 अगस्त 2021 तक इस वेरिएंट के 16 राज्यों 70 मामले सामने आ चुके हैं. वहीं रिपोर्ट में ये भी कहा गया है कि इस बात के कोई बायोलॉजिकल सबूत नहीं है कि डेल्टा और डेल्टा प्लस वेरिएंट बड़ों से ज्यादा बच्चों को प्रभावित करेगा.

इससे पहले कानपुर आईआईटी के सीनियर वैज्ञानिक ने कोरोना की तीसरी लहर की आशंका से ही इनकार कर दिया है. उनका कहना है कि तीसरी लहर आने की गुंजाइश न के बराबर है. उनका कहना है कि देश में इतने बड़े स्तर पर कोरोना वैक्सीनेशन (Corona Vaccination) किया जा रहा है कि तीसरी लहर का खतरा नहीं दिख रहा है. प्रो. अग्रवाल ने गणितीय सूत्र मॉडल के आधार पर यह स्टडी जारी की है.

सीनियर वैज्ञानिक पद्मश्री मणींद्र अग्रवाल (IIT Senior Scientist) का कहना है कि लगातार हो रहे वैक्सीनेशन की वजह से संक्रमण कम हो रहा है. यूपी, दिल्ली और बिहार में कोरोना के बहुत ही कम मामले हैं. इसीलिए तीसरी लहर का खतरा न के बराबर ही है. आईआईटी वैज्ञानिक की स्टडी के मुताबिक अक्टूबर महीने तक देश में कोरोना के एक्टिव मामले (Corona Active Cases) 15 हजार के करीब रहेंगे. उनका कहना है कि केरल, तमिलनाडु, कर्नाटक और असम से लगातार संक्रमण के मामले सामने आते रहेंगे.

Leave a Reply

Your email address will not be published.