संस्कृति और सभ्यता से भरपूर बिहार के प्राकृतिक सुंदरता की खोज ,सैर करें बिहार के खास झरनों की!

कही-सुनी

क्या आपने कभी संस्कृति और सभ्यता से भरपूर बिहार के प्राकृतिक सुंदरता की खोज की है? अगर आपका जबाव ना है, तो आपको इस सीजन बिहार के प्राकृतिक वाटरफाल्स की सैर अवश्य करनी चाहिये, जो यकीनन राज्य का प्राकृतिक गौरव है। जब भी बात वाटरफाल्स या फिर प्राकृतिक सुन्दरता की आती है, तो हम सब बिहार को इग्नोर कर देते हैं। लेकिन ऐसा सब नहीं करते हैं , जो लोग ऑफबीट जगहों के घूमने के शौक़ीन हैं, वह बिहार की खूबसूरत प्राकृतिक सुन्दरता को निहारने और उन्हें कैमरे में कैद करने अवश्य पहुंचते हैं। बिहार में विश्व प्रसिद्ध स्तूपों और प्राचीन खजानों के अलावा, पर्यटकों को यहां के प्राकृतिक नजारों को भी अवश्य देखना चाहिये, जो पूरे राज्य में विस्तृत है। तो आइये जानते हैं, बिहार खास झरनों के बारे में, जो आपको बिहार की गर्मी से राहत दिला सकते हैं-

काकोलाट वाटरफॉल

बिहार के नवादा जिले में स्थित, काकोलाट वाटरफॉल 160 फीट की ऊंचाई से पहाड़ी इलाकों से नीचे गिरता है। इस झरने की खास बात यह है कि, इसका पानी हमेशा ठंडा रहता है, साल के हर समय झरने का पानी बेहद शीतल होता है। गर्मियों और वीकेंड के दौरान यह झरना स्थानीय लोगों के बीच पिकनिक स्पॉट बन जाता है, जहां लोग गर्मी से राहत पाने पहुंचते हैं।
एक पौराणिक कथा के अनुसार, एक ऋषि के शाप से एक राजा अजगर में बदल गया था जो आज भी इस झरने में निवास करता है। इस झरने के बारे में एक और मिथक है कि पांडवों ने भी इस झरने की सैर की है। काकोलट झरना, एक प्राकृतिक बेसिन का दावा करती है।

करकट झरना

बिहार के कैमूर जिले में कैमूर पहाड़ी में स्थित करकट झरना राज्य के सबसे खूबसूरत और लोकप्रिय झरनों में से एक है। घने वनस्पति, और विविध वन्यजीवन से घिरे हुए करकट झरने के आसपास वन्यजीव अभयारण्य भी मौजूद है, जहां आप पक्षियों, जानवरों और पौधों की कई लुप्तप्राय और दुर्लभ प्रजातियों को देख सकते हैं। झरने का पानी नीचे गिरने के बाद एक जलाशय का रूप ले लेता है , जहां पर्यटक नौकायान, तैराकी, और फिशिंग का आनन्द ले सकते हैं। यदि आप एक उत्साहजनक अनुभव की तलाश में हैं, तोबेहतर होगा कि, आप वीकेंड के दौरान करकट वाटरफॉल की प्राकृतिक सुन्दरता को खोज सकते हैं।

तेल्हार झरना

करकट झरने के अलावा कैमूर की पहाड़ियां तेल्हार झरने के लिए भी जानी जाती है, जहां आप गर्मी के तपिश से बचने के लिए दोस्तों और परिवार वालो के साथ वीकेंड पर पिकनिक मना सकते हैं। इस झरने के आसपास का क्षेत्र बेहद ही शांत और और सुखद है,यह आपके लिए एक सर्वोत्तम यात्रा गंतव्य है। तेलहर वाटरफॉल स्थानीय पर्यटकों के बीच अपने आस-पास के स्थानों के लिए भी लोकप्रिय है, जिसमे प्राचीन मंदिर मां मुदेशेश्वर मंदिर शामिल है, जहां हर साला माता के दर्शन करने हजारों श्रद्धालु पहुंचते हैं , इसके अलावा पर्यटक प्रकृति की गोद में स्थित करमचट डैम भी घूम सकते हैं।

मंझर कुंड

बिहार के रोहतास जिले में सासाराम से चार किमी दक्षिण में स्थित मझर कुंड की यात्रा पर्यटक अधिकतर अगस्त-सितम्बर के दौरान करते हैं, जब यह कुंड झरने के पानी से पूरी तरह भर जाता है। यदि आप अपनी गर्मी की तपिश से बचकर खुद को ठंडा और तरो-ताज़ा करना चाहते हैं, तो आपको वीकेंड या फिर छुट्टी के दिन इस कुंड की सैर आपको अवश्य करनी चाहिए । आपको मंझर कुंड में ब्रेक लेना चाहिए और इसकी शानदारता को देखना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.