पटना के दीघा समेत चार जगहों पर लगेगा ट्रीटमेंट प्लांट, बिहार को मिला केंद्र सरकार का तोहफा

खबरें बिहार की राष्ट्रीय खबरें

गंगा में प्रवाहित हो रही शहरी गंदगी को रोकने के लिए छह शहरों में एसटीपी सीवरेज नेटवर्क का निर्माण होगा। केंद्र सरकार की नमामि गंगे परियोजना के तहत नेशनल मिशन फॉर क्लीन गंगा (एनएमसीजी) की कार्यकारिणी समिति ने राज्य के गंगा के किनारे बसे छह शहरों के लिए एसटीपी और सीवरेज नेटवर्क योजना को मंजूरी दी है।

एनएमसीजी ने कार्यकारी एजेंसियों को जल्द से जल्द इन परियोजनाओं पर काम शुरू करने का निर्देश दिया है। परियोजनाओं का पूरा खर्च केंद्र सरकार वहन करेगी। राज्य सरकार को सिर्फ जमीन उपलब्ध करानी है। इसमें राजधानी पटना में कंकड़बाग और दीघा के लिए दो एसटीपी और सीवरेज नेटवर्क को मंजूरी दी गई है। बाकी की चार परियोजनाएं बाढ़, मोकामा, सुल्तानगंज और नवगछिया शामिल हैं।

दीघा व कंकड़बाग के लोगों को जलजमाव से निजात दिलाने की कवायद तेज हो गई है। दोनों इलाकों में सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट एवं नेटवर्क निर्माण को लेकर नगर विकास सह आवास विभाग के निर्देशानुसार कार्य कर रही एजेंसी बुडको ने डीपीआर तैयार कर लिया है। इसे इसी सप्ताह केंद्रीय नगर विकास विभाग को भेज दिया जाएगा। इसमें दीघा व कंकड़बाग में सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट के साथ-साथ सीवरेज नेटवर्क निर्माण का भी प्रावधान किया गया है।

दीघा पर 1014 करोड़ रुपये खर्च होंगे। यहां 138 एमएलडी का पंप होगा। जबकि कंकड़बाग में निर्माण के लिए 632 करोड़ रुपये खर्च होंगे। यहां 60 एमएलडी पंप होगा। सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट का निर्माण हो जाने से दीघा एवं कंकड़बाग क्षेत्र के सभी इलाकों में जलजमाव व नाले की समस्या दूर हो जाएगी। घरों से आसानी से पानी की निकासी होकर सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट तक पहुंचेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.