अभी से ही बिहार में मंडराने लगा बाढ़ का खतरा, नेपाल में बारिश से कोसी नदी का जलस्तर बढ़ा

खबरें बिहार की

नेपाल में हो रही बारिश से कोसी का जलस्तर बढ़ गया है। बाढ़ अवधि के पहले दिन 15 जून को कोसी बराज से 92480 क्यूसेक पानी छोड़ा गया। दो दिनों के अंदर जलस्तर में तीन फीट तक वृद्धि दर्ज की गई। रविवार की शाम 4:00 बजे कोसी से 110155 क्यूसेक पानी छोड़ा गया। राहत की बात यह कि जल अधिग्रहण क्षेत्र बराह क्षेत्र में जलस्तर 65,125 क्यूसेक घटते क्रम मं  दर्ज किया गया। कोसी बराज के कंट्रोल रूम में सहायक अभियंता लाला प्रसाद ने बताया कि जब बरसात पहले आ जाती है तो जलस्तर बाढ़ अवधि से पहले भी बढ़ जाता है।

अब मानसून आ गया है तो बराज के जलस्तर का घटना-बढ़ना जारी रहेगा। जलस्तर डेढ़ लाख क्यूसेक से अधिक होने पर ही कोसी के बेड में बसे लोगों को परेशानी होती है। फिलहाल किसी प्रकार का खतरा नहीं है। पानी निकासी के लिए वर्तमान में बराज के 56 में से 16 गेट खोले गए हैं। 25 जून से कैनाल की खुलने की संभावना है। कैनाल के खुले रहने से लोगों की डिमांड के अनुसार कैनाल में भी पानी दिया जाता है, तब 5000 से 10000 क्यूसेक कोसी बराज के डिस्चार्ज में अंतर आ जाता है। विभाग के पदाधिकारी और कर्मी 24 घंटे अलर्ट पर हैं।

शहर में शनिवार की देर शाम करीब नौ बजे तेज आंधी के साथ करीब डेढ़ घंटे तक मूसलाधार बारिश हुई। इससे कई पेड़ एवं बिजली खंभे गिर गए। हालांकि पेड़ गिरने से आवागमन ज्यादा प्रभावित नहीं हुआ। बारिश के कारण शहर में कई जगहों पर जलजमाव हो गया और लोगों को आने-जाने में परेशानी हुई। इससे रात में करीब नौ बजे से डेढ़ बजे तक साढे चार घंटे तक बिजली गुल रही। शहर में हुई बारिश से कई सड़कों पर जलजमाव हो गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.