अब बिहार से सटे पड़ोसी क्षेत्र में शुरू होगी बाघा बॉर्डर की तरह रिट्रीट सेरेमनी

अंतर्राष्‍ट्रीय खबरें

बिहार के लोगों को अब बीटिंग रिट्रीट सेरेमनी देखने के लिए बाघा बॉर्डर नहीं जाना होगा। अब वह अपने राज्यकीय सीमा से महज 30 किमी का सफर तय कर बीटिंग रिट्रीट सेरेमनी देख पाएंगा। प्राप्त जानकारी अनुसार भारत सरकार और बांगलादेश सरकार के बीच संधी होने के बाद इसको लेकर तैयारी शुरू कर दी गई है।

इस खबर की सूचना मिलते ही तय हो गया कि बिहार के लोग जब चाही इस सेरेमनी को देख सकते हैं। इसके लिए उनको अधिक पैसे भी खर्च नहीं करने होगें। बताया जाता है कि जिस स्थान पर यह बीटिंग रिट्रीट सेरेमनी होगा वह किशनगंज से मात्र तीस किमी दूर है।

जानकारी अनुसार बाघा बॉर्डर की तर्ज पर बांग्लादेश बॉर्डर पर भी बीटिंग रिट्रीट सेरेमनी 27 अप्रैल से शुरू होगी। भारत-बांग्लादेश संबंधों व चीन की बदली रणनीति के मद्देनजर केंद्र सरकार का यह बड़ा कदम माना जा रहा है।

शुक्रवार को बॉर्डर सिक्योरिटी फोर्स के डीजी केके शर्मा (आइपीएस) व बॉर्डर गार्ड बांग्लादेश (बीजीबी) के डीजी मु. शफीनूल इस्लाम कार्यक्रम का शुभारंभ करेंगे। इस ऐतिहासिक क्षण का गवाह बनेगा भारत का फूलबाड़ी व बांग्लादेश का पंचगढ़ बीओपी। बीएसएफ के अनुसार सारी तैयारी पूरी कर ली गई है।

बांग्लादेश, भूटान, तिब्बत और नेपाल से सटे होने के कारण नार्थ-ईस्ट का यह इलाका सामरिक दृष्टिकोण से महत्वपूर्ण माना जाता है। खासकर डोकलाम विवाद के बाद चीन की रणनीति को ध्यान में रखकर भारत सरकार भी पड़ोसी देशों के साथ अपने संबंधों को नया आयाम दे रही है। बांग्लादेश बॉर्डर पर बीटिंग रिट्रीट सेरेमनी के आयोजन को भी इसी का हिस्सा माना जा रहा है।

गृह मंत्रालय के निर्देश पर शुक्रवार से फूलवाड़ी बॉर्डर पर शुरू हो रही ज्वाइंट रिट्रीट को लेकर सारी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। बॉर्डर पर तैनात बीएसएफ की 51वीं बटालियन इस परेड में शामिल होगी। शुरुआती दौर में बुनियादी जरूरतों को पूरा कर एक सप्ताह पूर्व से परेड का अभ्यास किया जा रहा है। वहीं बीएसएफ के अनुसार दर्शकों के बैठने की गैलरी व अन्य ढांचे तैयार करने का काम भी शुरू हो चुका है।

शुक्रवार को बीएसएफ और बीडीआर अधिकारियों की उपस्थिति में भव्य समारोह का आयोजन किया जाएगा और ज्वाइंट रिट्रीट की शुरुआत कर दी जाएगी। हाल ही में दोनों देशों की सरकार ने आपसी सौहार्द को बनाए रखने के उद्देश्य से फूलबाड़ी सीमा पर रोजाना रिट्रीट करने पर सहमति जताई थी। 2012 में हुई डीजी स्तरीय बातचीत में भी यह प्रस्ताव दिया गया था।

बाघा बॉर्डर की तर्ज पर बांग्लादेश सीमा पर अवस्थित फूलबाड़ी बॉर्डर पर भी बीटिंग रिट्रीट कार्यक्रम की शुरुआत हो रही है। 27 अप्रैल को बीएसएफ डीजी व बीजीबी डीजी कार्यक्रम का शुभारंभ करेंगे। इस कार्यक्रम से स्थानीय कलाकारों को भी मौका मिलेगा। अजीत कुमार, डीआइजी, बीएसएफ, नॉर्थ बंगाल फ्रंटियर, सिलीगुड़ी

Leave a Reply

Your email address will not be published.