पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई जी आज ही के दिन हम सबका साथ छोड़कर चले गए थे। आज से उनकी पुण्यतिथि के एक साल हो गए हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और गृहमंत्री अमित शाह समेत देश के कई प्रतिष्ठित नेता उन्हें श्रद्धांजलि देने पहुंचे हैं। ये नेता उनकी स्मृति स्थल ‘सदैव अटल’ पर जाकर श्रद्धांजलि अर्पित कर उन्हें याद कर रहे हैं।

बता दें कि दिल्ली में स्थित अटल बिहारी जी की स्मृति स्थल पर बहुत बड़े कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है। इस कार्यक्रम में उनकी बेटी नमिता कौल भट्टाचार्य, पौती निहारिका समेत परिवार के अन्य सदस्य पहुंच गए हैं। म’रकर भी अमर हो जाने वाले, भाजपा के लिए दृढ़ता से लगे रहने वाले अटल बिहारी बाजपेई जी अपने व्यवहार और बोलने की कला से सबके दिलों पर राज करते थे। पक्ष ही नहीं विपक्ष भी उनका बहुत सम्मान करता था।

उपराष्ट्रपति वैंकैयै नायडू ने भी ट्वीट कर उन्हें श्रद्धांजलि दी। उन्होंने लिखा कि, ‘ अटल जी भारतीय लोकतंत्र की उत्कृष्टतम परंपराओं के प्रेरणा पुंज थे, लोकतंत्र की सात्विक मर्यादाओं के मूर्तरूप थे। देश अपने मानवतावादी युगदृष्टा नेता, सहृदय और ओजस्वी शब्दशिल्पी को कृतज्ञतापूर्वक स्मरण करता रहेगा। पुण्यात्मा को मेरी विनम्र श्रद्धांजलि।

अटल जी भारतीय लोकतंत्र की उत्कृष्टतम परंपराओं के प्रेरणा पुंज थे, लोकतंत्र की सात्विक मर्यादाओं के मूर्तरूप थे। देश अपने मानवतावादी युगदृष्टा नेता, सहृदय और ओजस्वी शब्दशिल्पी को कृतज्ञतापूर्वक स्मरण करता रहेगा। पुण्यात्मा को मेरी विनम्र श्रद्धांजलि।

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के निधन के बाद उनकी पार्टी बीजेपी ने उनकी अस्थियों को देश की सौ नदियों में प्रवाहित किया था । पार्टी ने इसकी शुरुआत हरिद्वार में गंगा में विसर्जन के साथ की थी। अपनी कविताओं और भाषणों के लिए हमेशा जाने वाले अटल बिहारी वाजपेयी भाजपा के संस्थापकों में से एक थे। उन्होंने ही भाजपा को बनाया उसे खड़ा किया और हमेशा उसके लिए संकल्पित होकर कार्य किया।

Sources:-Live News

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here