विश्वविद्यालय में पढ़ने वाले टॉप-100 विद्यार्थियों को विदेश भेजेगी बिहार सरकार: तेजस्वी यादव

खबरें बिहार की प्रेरणादायक

बिहार के उप मुख्यमंत्री तेजस्वी प्रसाद यादव ने कहा कि राज्य के विश्वविद्यालयों में पढ़ने वाले शीर्ष सौ विद्यार्थियों को राज्य सरकार अपने खर्चे पर विदेश पढ़ने के लिए भेजेगी। उन्होंने फैकल्टी से भी कहा कि वे भी विद्यार्थियों को पढ़ने के लिए विदेश भेजें, सरकार सहयोग करेगी। उन्होंने यह घोषणा पटना वीमेंस कालेज में ढाई हजार क्षमता वाला वेरोनिका आडिटोरियम के उद्घाटन समारोह में की।

उप मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम में मौजूद पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं सांसद रविशंकर प्रसाद से आग्रह किया कि वे पटना विश्वविद्यालय को केंद्रीय दर्जा दिलाने के लिए केंद्र सरकार के समक्ष पहल करें। उन्होंने कहा कि पटना वीमेंस कालेज ने हमेशा महिलाओं को आगे बढ़ाया है। हमारी नीति है कि महिलाएं नीति नियंता बनें। हमारी पार्टी इस स्तर पर कार्य भी कर रही है।

तेजस्वी यादव ने कहा कि पुलिस नियुक्ति में बिहार सरकार ने सबसे अधिक महिलाओं की भर्ती की है। महिलाएं आगे बढ़ेंगी तो बिहार आगे बढ़ेगा। आने वाले समय में दस लाख युवाओं को नौकरी देने का लक्ष्य है। इनमें तीन लाख युवाओं को शिक्षा क्षेत्र में नौकरी देने का लक्ष्य है।

पूर्ववर्ती छात्रों से सहयोग लें कुलपति : रविशंकर

पूर्व केंद्रीय मंंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि कभी पटना कालेज की तुलना आक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी से की जाती थी। आज पटना वीमेंस कालेज ने वह स्थान प्राप्त कर लिया है। कालेज का आडिटोरियम अंतरराष्ट्रीय स्तर का है। यह आधुनिक डिजिटल उपकरण से लैस है। रविशंकर प्रसाद ने कहा कि इस कालेज में शिक्षा, संस्कार और सौंदर्य तीनों है। आगे बढ़ना है, तो संस्कार जरूरी है

भाजपा सांसद ने पटना विश्वविद्यालय के कुलपति से कहा कि विश्वविद्यालय को आगे बढ़ाने के लिए पूर्ववर्ती छात्रों से सहयोग लें। हम सहायता करने के लिए बैठे है। रविशंकर प्रसाद ने कहा कि मैं लॉ कालेज का छात्र रह चुका हूं। जब कानून मंत्री था, तो विश्वविद्यालय एवं लॉ कालेज को सहायता करना चाहता था, लेकिन विश्वविद्यालय की ओर से इस संबंध में कभी पहल नहीं की गई। विश्वविद्यालय को हर स्तर पर सहयोग किया जाएगा।

12 मार्च को होगा पूर्ववर्ती छात्र सम्मेलन

पटना विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. गिरीश कुमार चौधरी ने कहा कि किसी भी विश्वविद्यालय की पहचान रिसर्च से होती है। आने वाले समय में रिसर्च पेपर को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर प्रकाशित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि तीन सौ करोड़ रुपये की लागत से विश्वविद्यालय में दो भवन और दो महिला छात्रावास का निर्माण कराया जा रहा है। 12 मार्च को विश्वविद्यालय में पूर्ववर्ती छात्र सम्मेलन में आयोजित होगा। विश्वविद्यालय की गरिमा वापस लाने की कोशिश की जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *