विष्णुपद स्थित सोलह वेदियों पर कर्मकांड शुरू, चार लाख से अधिक पिंडदानी गयाधाम पहुंचे

खबरें बिहार की जानकारी

पितृपक्ष के छठे दिन आश्विन कृष्ण पक्ष पंचमी को गया स्थित विष्णुपद मंदिर परिसर में वेदियों पर त्रिपाक्षिक श्राद्ध शुरू हुआ। अगले तीन दिन यानी रविवार तक मंदिर में ही 19 वेदियों पर कर्मकांडियों की भीड़ रहेगी। पिंडदानियों ने सोलह वेदियों में तीन पर खीर से बने पिंड को अर्पित कर पितरों के मोक्ष की कामना की। इस बार रबर डैम बनने के बाद फल्गु के लबालब भरे रहने के कारण पिंडदानियों की भीड़ घाट और मंदिर इलाकों में ज्यादा है।

खीर से बने पिंड अर्पित कर पितरों के मोक्ष की कामना की

त्रिपाक्षिक गयाश्राद्ध रहे पिंडदानियों ने गुरुवार को विष्णुपद मंदिर परिसर में स्थित सोलह वेदियों में तीन वेदियों पर खीर से बने पिंड को अर्पित कर पिंडदानियों ने पितरों को मोक्ष की कामना की। विष्णुपद, रूद्रपद और ब्रह्मपद वेदी पर कर्मकांड किया। पिंडदानियों की सबसे ज्यादा भीड़ सोलह वेदी और आसपास में बनी रही। यहां फिसलन के कारण पिंडदानियों को परेशानी हुई। वेदियों पर पिंड के बाद पिंडदानियों ने विष्णुचरण के दर्शन और पूजन किए। श्री विष्णुपद प्रबंधकारिणी समिति के अध्यक्ष शंभू लाल विट्ठल व सचिव गजाधर लाल पाठक ने कहा कि गुरुवार से सोलह वेदी पर पिंडदान शुरू हुआ है। त्रिपाक्षिक के अलावा एक और तीन दिनों का गयाश्राद्ध करने वालों भीड़ विष्णुपद मंदिर से लेकर वेदियों पर है।

विष्णुपद में अंदर से बाहर कामख्या मंदिर तक पिंडदानियों की कता

तिथि होने के कारण गुरुवार को विष्णुपद इलाके में भीड़ ज्यादा रही। इस बार मंदिर में पुलिस प्रशासन की ओर कतार की अलग तरह की व्यवस्था की गई है। इस वजह से पिंडदानियों की भीड़ देर तक मंदिर परिसर में टिक जा रही है। मंदिर के निकास दरवाजे से लेकर पीछे दक्षिण हिस्से में जबर्दस्त भीड़ बन जा रही है। दायीं ओर से धूप घड़ी वाले एरिया में जाने रास्ता भी बंद कर दिया गया है। मंदिर से लेकर बाहर तक पिंडदानियों की कतार लगी  रही। सुबह 10 बजे तक तीर्थयात्रियों की लाइन कामख्या मंदिर तक रही।

पिंडदानियों से पटा है गदाधर से लेकर संगत घाट

आश्विनी कृष्ण पक्ष पंचमी से पिंडदानियों की भीड़ और बढ़ गई है। 17 दिनी यानी त्रिपाक्षिक गयाश्राद्ध करने वालों के अलावा सबसे ज्यादा एक दिन और तीन दिनी पिंडदान करने वालों की है। इस बार रबर डैम बनने के बाद फल्गु के लबालब भरे रहने के कारण पिंडदानियों की भीड़ घाट और मंदिर इलाकों में है। गदाधर, देवघाट, संगत घाट पर बने पंडाल पिंडदानियों से भरे हैं। शंकराचार्य पार्क में भी मैदान से लेकर छत पर कर्मकांड के मंत्र गूंज रहे हैं। सुबह से लेकर शाम तक मोक्षदायिनी के घाट कर्मकांड के निमित किए गए वैदिक मंत्रोच्चार से गूंज रहे हैं। गुरुवार को भी भारी संख्या में एक दिन का गया श्राद्ध करने वालों ने फल्गु, विष्णुपद सहित अन्य वेदियों पर पिंडदान के बाद अक्षयवट में जाकर सुफल लेकर पिंडदान संपन्न किया।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.