पूरी दुनिया में चीन से निकले नए वायरस के खतरे को देखते हुए भारत ने अपने सभी एयरपोर्ट्स में Alerts जारी कर दिए हैं. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने सभी अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट्स में स्क्रीनिंग शुरू कर दी है. चीन के वुहान शहर से निकले इस वायरस का नाम कोरोनावायरस बताया जा रहा है. अब तक चीन, थाईलैंड और दक्षिण कोरिया में इस वायरस से 9 लोगों की मौत हो चुकी है. अमेरिका में इस वायरस का पहला केस सामने आ चुका है.

चीन और हांगकांग से आने वाले सभी यात्रियों की होगी जांच
सिविल एविएशन मिनिस्ट्री ने दिल्ली, कोलकाता, मुबंई, हैदराबाद, बंगलुरु, चेन्नई और कोच्ची एयरपोर्ट्स पर स्क्रीनिंग शुरू कर दिया है. अधिकारियों का कहना है कि चीन और हांगकांग से आने वाले सभी यात्रियों की सघन जांच होगी. बिना जांच किसी भी यात्री को देश में प्रवेश की इजाजत नहीं दी जाएगी. इसके अलावा सभी समुद्री बंदरगाहों में भी जांच की व्यवस्था की गई है. चीन से समुद्र के रास्ते भारत आने वालों की भी जांच होगी.

400 से ज्यादा लोग हो चुके हैं कोरोनावायरस से संक्रमित
अंतरराष्ट्रीय संस्था विश्व स्वास्थ्य संगठन World Health Organization (WHO) ने आधिकारिक पुष्टि की है कि अब तक चीन से निकले कोरोनावायरस से पूरी दुनिया में 400 से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं. अमेरिका में पहला केस सामने आया है.

चीनी सूचना का मतलब समझिए
चीन की सरकार अपने किसी भी नकारात्मक खबर को जल्दी दुनिया के सामने नहीं लाती. लगभग 18 साल पहले सार्स संक्रमण बुरी तरह फैलने के बाद भी चीन सरकार इसके आंकड़े अन्य देशों के साथ साझा करने से कतराती रही थी. संक्रमण के पूरी दुनिया में फैलने के काफी समय बाद चीन सरकार ने स्वीकार किया था कि सार्स वायरस का संक्रमण चीन से ही फैला. 2002-03 में सार्स संक्रमण की वजह से पूरी दुनिया में 700 से ज्यादा लोगों की मौत हुई थी. जानकारों का कहना है कि अगर समय रहते चीन सरकार ऐसे संक्रमण की जानकारी अन्य देशों से साझा कर देती तो पूरी दुनिया में सार्स वायरस से काफी जान बच जाती.

WHO ने पूरी दुनिया को कर दिया है आगाह
इस बार विश्व स्वास्थ्य संगठन नए वायरस को लेकर कोई कोताही नहीं बरतना चाहती. चीन सरकार की ओर से नए संक्रमण की बात बताने के तुरंत बाद ही WHO ने पूरी दुनिया में इसके लिए अलर्ट जारी कर दिया है. हालांकि संगठन ने यह भी कहा है कि अभी दुनिया के विभिन्न लैब्स में इस नए वायरस की सघन जांच हो रही है. जांच रिपोर्ट के बाद ही इसके उपचार के बारे में बताया जाएगा.

Source – Zee News

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here