पटना यूनिवर्सिटी की सेंट्रल लाइब्रेरी के शताब्दी समारोह में आएंगे उपराष्ट्रपति

खबरें बिहार की

पटना यूनिवर्सिटी के सेंट्रल लाइब्रेरी के सौ साल पूरे होने पर विश्वविद्यालय बड़े कार्यक्रमों का आयोजन करने जा रहा है. कार्यक्रम में मुख्य रूप से भारत के उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू शामिल होंगे. उपराष्ट्रपति सबसे पहले पटना सेंट्रल लाइब्रेरी में रखी दुर्लभा पांडुलिपियां, सिक्के, किताबों का जायजा लेंगे और फिर पटना साइंस कॉलेज के ग्राउंड में आयोजित कार्यक्रम में शामिल होंगे.

उपराष्ट्रपति के आगमन को लेकर सुरक्षा व्यवस्था के तगड़े इंतजाम किए गए हैं. साइंस कॉलेज ग्राउंड में भी बड़ा वाटर प्रूफ पंडाल तैयार किया गया है।दो दिन पहले पटना सेंट्रल लाइब्रेरी का खुद डीएम और एसएसपी ने भी जायजा लिया था.पटना विश्वविद्यालय प्रशासन के मुताबिक उपराष्ट्रपति एक घंटे से भी ज्यादा समय यहां बिताएंगे.

उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू रविवार शाम में पटना हाईस्कूल के सौ साल पूरे होने पर आयोजित शताब्दी समारोह में भी शामिल होंगे. कार्यक्रम में शामिल होने के लिए बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, राज्यपाल और शिक्षा मंत्री कृष्णनंदन वर्मा को भी न्योता भेजा गया है. उपराष्ट्रपति वेंकैया नायूड शाम में पटना हाईस्कूल यानि शहीद राजेंद्र प्रसाद सिंह राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय के सौ साल पूरे होने पर आय़ोजित कार्यक्रम में शामिल होंगे.

उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू पुराने छात्रों से भी मुलाकात करेंगे और उन्हें यहां की प्रार्थना भी सुना जाएगी।शाम 4 से 5 बजे तक आयोजित कार्यक्रम में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी, सिक्किम के राज्यपाल गंगा प्रसाद शामिल होंगे. साल 1919 में स्थापना के बाद से ही यहां पिछले 100 सालों से हे नाथ अलख, अनादि, अनुपम जगत के आधार है, हे लोकनायक ,मुक्तिदायक दया के अवतार हे के नाम की प्रार्थना का यहां पाठ होता है.

कार्यक्रम में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी शामिल होंगे. पटना हाई स्कूल के ग्राउंड पर बड़ा जैसा पंडाल तैयार किया जा रहा है. यहां पटना पुलिस के जवान खोजी कुत्तों के साथ सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लेते दिखे. जगह-जगह पर नॉन लीनियर जंक्शन डिटेक्टर के जरिए संदिग्ध चीजों की खोज की जा रही है.

पटना हाईस्कूल के प्रिंसिपल रवि रंजन के मुताबिक, प्रिंसिपल के साथ ही यहां के छात्र भी उपराष्ट्रपति के आगमन को लेकर काफी खुश हैं और यहां के पूर्ववर्ती छात्रों ने ही इसका आयोजन किया है. राज्यसभा सांसद आरके सिन्हा, राजद के वरिष्ठ नेता अब्दुल बारी सिद्धिकी और शिवानंद तिवारी, सिक्किम के राज्यपाल गंगा प्रसाद, असम के पुलिस आयुक्त दीपक कुमार जैसे लोग इसी स्कूल से पढ़कर निकले हैं.

पटना विश्वविद्यालय के साथ पटना हाईस्कूल का भी गौरवशाली इतिहास रहा है. पटना हाईस्कूल यानि शहीद राजेन्द्र प्रसाद सिंह राजकीय उच्च विद्यालय के छात्रों ने भारत भर में अपना नाम कमाया है. 1942 में जब भारत छोड़ों आंदोलन शुरू हुआ था तो यहीं के छात्र राजेंद्र प्रसाद सिंह पटना सचिवालय में गोलीबारी के दौरान शहीद हो गए थे. अब जबकि स्वयं उपराष्ट्रपति यहां आएंगे तो इस स्कूल के लिए यह क्षण गौरव प्रदान करने वाला होगा.

Sources:-Zee News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *