वैनायिकी चतुर्थी पर चार ग्रह स्वग्रही, जानें गणेश चतुर्थी पर ग्रहों की कैसी रहेगी स्थिति

आस्था जानकारी

भाद्रपद शुक्ल पक्ष चतुर्थी तिथि को वैनायकी सिद्धि विनायक वरद श्री गणेश चतुर्थी का व्रत बड़े ही धूमधाम के साथ मनाया जाता है। इस वर्ष विनायकी गणेश चतुर्थी व्रत मध्यान्ह व्यापिनी चतुर्थी तिथि 31 अगस्त 2022 दिन बुधवार को बड़े धूमधाम के साथ मनाई जाएगी तथा इसी के साथ गणेश उत्सव का आरंभ भी हो जाएगा । भगवान गणेश को प्रथम पूज्य ईश्वर के स्थिति प्राप्त है बुद्धि विवेक ऐश्वर्य सहित सभी सिद्धियों को प्रदान करने वाले माने जाते हैं साथ में ही योग्य संतान प्राप्ति के लिए प्राप्ति के लिए श्री गणेश भगवान की उपासना श्रेष्ठ फल प्रदायक होती है भाद्रपद शुक्ल पक्ष चतुर्थी तिथि के दिन से आरंभ होकर अनंत चतुर्दशी गणपति विसर्जन 9 सितंबर 2022 दिन शुक्रवार तक संपूर्ण महाराष्ट्र में गणेश उत्सव का महान पर्व मनाया जाता है 10 दिनों तक चलने वाला यह व्रत अत्यंत प्रसिद्ध एवं महत्वपूर्ण है।

बुधवार के दिन गणेश चतुर्थी पड़ेगा । ज्ञान, बुद्धि ,विवेक के कारक ग्रह बुध अपनी उच्च राशि कन्या में गोचर करते हुए इस व्रत के महात्म्य में वृद्धि करने वाले हैं । साथ ही बृहस्पति स्वराशि मीन में रहकर बुध पर दृष्टिपात करेंगे।शनि देव एवं सूर्य भी स्वगृही रह कर इस महान पर्व, व्रत को श्रेष्ठता प्रदान करेंगे।

गणेश चतुर्थी 2022 शुभ मुहूर्त-

31 अगस्त को सुबह 11 बजकर 05 मिनट से दोपहर 01 बजकर 38 मिनट के बीच भगवान गणेश की पूजा का शुभ मुहूर्त है। इस दिन रवि योग सुबह 05 बजकर 58 मिनट से दोपहर 12 बजकर 12 मिनट तक रहेगा। इस अवधि में शुभ कार्यों को करना अति उत्तम माना जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.