बिहार की कला ‘कोहबर’ की मदद से औरतों को आत्मनिर्भर बना रहीं उषा झा

बिहारी जुनून

बिहार की मधुबनी कला को पूरी दुनिया में पहुंचाती उषा झा, दिया कई महिलाओं को रोजगार

पेटल्स क्राफ्ट की संस्थापक उषा झा ने अपनी पहचान बनाने के सफर में सैकड़ों महिलाओं को वित्तीय रूप से सशक्त किया है।

“क्या जरूरत है?” 1 99 0 के दशक में जब उषा झा ने पटना में मधुबनी हस्तशिल्प के लिए गो-टू प्लेस- पेटल्स क्राफ्ट  लॉन्च करने का फैसला किया, तो हर किसी ने उनसे यही सवाल किया की आखिर इसकी जरुरत क्या है ?

लोगों से मिली हतोत्साहन को उषा जी ने अपने ऊपर हावी नहीं होने दिया। व कहती हैं- “कहीं गहरे अंदर, मेरे पास उद्यमशीलता का सपना था। मैं अपने और दूसरों के लिए कुछ करना चाहती थी। मेरे जीवन में सब कुछ था – बच्चे, एक भरा-पूरा प्यार करने वाला परिवार था- फिर भी मुझे लगा कि मेरे पास अपनी कोई पहचान नहीं है। मुझे अपने होने का बोध नहीं था।”

अपनी पहचान बनाने से लेकर 300 से अधिक महिलाओं को वित्तीय रूप से सशक्त बनाने तक उषा जी ने एक लम्बा सफर तय किया है। यद्यपि यह आसान नहीं था, लेकिन यात्रा संतोषजनक रही, और इसी बात ने उषा जी को बांधे रखा।

बिहार-नेपाल सीमा पर एक गांव की रहने वाली उषा की 10 वीं कक्षा समाप्त होने से पहले ही शादी हो गई थी। शादी के बाद वह पटना चली गईं लेकिन अपनी पढ़ाई जारी रखी। निजी ट्यूशन, डिस्टेंस एजुकेशन और सरकारी शिक्षा के माध्यम से उन्होंने मास्टर तक की पढाई की।

अपनी स्वयं की पहचान बनाने की इच्छा ने उन्हें आगे बढ़ने को प्रोत्साहित किया। 1991 में, जब उनके बच्चे बड़े हो गए तो उनके पास खाली समय रहने लगा तो उषा ने अपने सपने को जीने का फैसला लिया। उन्होंने मिथिला कला की रचना की, जिससे वह बचपन से परिचित थी। एक भरोसा था की अपने भविष्य का निर्माण करने जा रही हैं।

मिथिला कला बिहार के मिथलांचल क्षेत्र की लोक कला है और रामायण और महाभारत में इसका उल्लेख मिलता है।
इसकी उत्पत्ति “कोबर” (एक कमरे में जहां एक मठली की शादी के दौरान रस्में और रीति-रिवाज होते हैं और जहां एक या एक से अधिक दीवारों को देवताओं और देवी और अन्य शुभ वस्तुओं की चित्रों के साथ चित्रित किया जाता है) का पता लगाया जा सकता है।


उषा याद करते हैं कि जब भी परिवार में कोई शादी होती है, तो वो पहले कोहबर बनाते थे। “आज की शादी की तैयारी हॉल की बुकिंग और मेनू चयन से शुरू होती है; उन दिनों हम कोहबर से शुरू करते थे।”

इस सहज प्रतिभा का उपयोग करके, उन्होंने मिथिलांचल कला (जिसे मधुबनी भी कहा जाता है) का निर्माण करना शुरू कर दिया और इस कला को दीवारों पर उकेरने के बाद साड़ी, कपड़ा और कागज पर उतारा।

“उन दिनों में मैंने कभी नहीं सोचा था कि दीवारों पर यह कला पैसे कमाई और परिवार चलाने का एक तरीका होगा। लेकिन वर्षों से यह रोजगार का साधन बन गया।”
1 99 1 में पटना के बोरिंग रोड में उषा के घर से शुरू हुआ था पेटलों शिल्प। एक कमरे से शुरू हुआ उषा जी का उद्यम आज पूरे घर में फ़ैल गया। पेटल क्राफ्ट्स में ग्राहकों के लिए फ़ोल्डर्स, साड़ी, स्टॉल्स, और सभी सामान बड़े करीने से शेल्फ पर तैयार कर रखे जाते हैं।
उषा बताती हैं, “आज हम आधुनिक मांगों को पूरा कर चुके हैं और बैग, लैंप, साड़ी और घरेलू सामान सहित लगभग 50 विभिन्न उत्पादों पर मधुबनी पेंटिंग कर रहे है।” उषा एक पेपर नैपकिन दिखाते हुए कहती हैं की ये अमेरिकी और यूरोपीय ग्राहकों के साथ बड़ी हिट रही है।
उषा के उत्पादों के ग्राहकों की लिस्ट में सरकार से लेकर दुनिया के विभिन्न कोनों से आये विभिन्न गणमान्य व्यक्ति और पर्यटक हैं।

2008 में, उषा ने अपनी गैर सरकारी संस्था मिथिला विकास केंद्र पंजीकरण कर गांवों में अपने काम को औपचारिक रूप दिया था। “इसके माध्यम से, हम महिलाओं को वित्तीय रूप से सशक्त बनाते हैं, इस तरह का एक उदाहरण तैयार करते हैं कि कैसे महिलाओं को अपने परिवार को चलाने, अपने बच्चों को शिक्षा प्रदान करने, और उनके स्वास्थ्य के बारे में अधिक जानकारी मिल सकती है। हम स्वास्थ्य को प्राथमिकता देते हैं और महिलाओं को स्वास्थ्य समस्याओं के बारे में जागरूकता बढ़ाती है। ”

उषा द्वारा प्रशिक्षित कई महिलाओं ने खुद का काम शुरू किया।

 

उषा कहती हैं, “जब ऑनलाइन बिक्री करने की कोई अवधारणा नहीं थी तब मैंने शुरू किया उन दिनों में हमें पूरे देश में और विदेशों में स्टालों की यात्रा करना और स्थापित करना पड़ा। मैं अपने सामान बेचने के लिए बड़े पैमाने पर यात्रा करती थी । ”
आखिरकार, वर्ड ऑफ़ माउथ के माध्यम से, पटना में उषा का नाम बन गया।

टेक्नोलॉजी की मदद से गाँवों के कलाकारों से संवाद स्थापित करना और उन्हें डिज़ाइन भेजना काफी आसान हो गया है। आज वह विभिन्न वेबसाइटों के माध्यम से अपना सामान ऑनलाइन बेचती हैं।

उषा जी कहती हैं की उनका सपना है की वो और भी ट्रेनिंग सेंटर विभिन्न गाँवों में खोलें और सभी महिलाओं को सही मायने में सशक्त करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.