उन्होंने कहा कि हरिवंश को इस कारण से अपने पद से इस्तीफा देने के लिए नहीं कहा गया है, जबकि जदयू भाजपा से अलग हो गई है। उन्होंने कहा कि लोगों को यह बात ध्यान में रखनी चाहिए कि जब भी ऐसी कोई परिस्थिति आती है, तो वह भाजपा की ओर वापस जा सकते हैं और उसके साथ काम कर सकते हैं। वहीं जदयू ने पीके की खिंचाई की और पार्टी प्रवक्ता केसी त्यागी ने कहा कि वो नीतीश कुमार ने सार्वजनिक रूप से घोषणा की है कि वह अपने जीवन में फिर कभी भाजपा से हाथ नहीं मिलाएंगे। त्यागी ने कहा कि हम उनके दावे का खंडन करते हैं। नीतीश कुमार 50 साल से अधिक समय से सक्रिय राजनीति में हैं जबकि प्रशांत किशोर छह महीने से हैं। प्रशांत किशोर ने भ्रम फैलाने के लिए इस प्रकार की भ्रामक टिप्पणी की है।

खबरें बिहार की जानकारी

निगरानी ब्यूरो ने बुधवार को विद्युत विभाग के कार्यपालक अभियंता को रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार कर लिया। बिहार स्टेट पॉवर ट्रांसमिशन कंपनी लिमिटेड में तैनात कार्यपालक अभियंता राकेश कुमार चीनी मिलों द्वारा उत्पादित बिजली का रियल टाइम डाटा उपलब्ध कराने के एवज में दो लाख रुपए रिश्वत ले रहे थे। उनकी गिरफ्तारी होटल पाटलिपुत्र अशोक के सामने से हुई।

निगरानी ब्यूरो के मुताबिक लखनऊ के एसजेएस बिहार पुष्पेन्द्र नगर के रहनेवाले जितेन्द्र सिंह यादव ने रिश्वत मांगे जाने की शिकायत दर्ज कराई थी। उनका कहना था कि सिंघवलिया, बगहा और नरकटियागंज के शुगर मिलों द्वारा उत्पादित बिजली का रियल टाइम डाटा देने के लिए उनके द्वारा पटना स्थित यूनिफाइड लोड डिस्पैच एंड कम्यूनिकेशन सेंटर में आरटीयू सिस्टम लगाया गया है।

वहां तैनात राकेश द्वारा डाटा का सत्यापन करते हुए उसे ‘स्काडा’ सिस्टम से एकत्र और रिकॉर्ड करने का काम होता है। पर वह सिस्टम को अनलिंक कर देते थे। सिस्टम ठीक से काम करें इसी के लिए वह रिश्वत की मांग कर रहे थे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.