यूक्रेन से आए 797 स्टूडेंट्स को अब भविष्य की चिंता:हालात बेकाबू होने से छात्रों की पढ़ाई पर लगा ब्रेक; अब भारत सरकार से गुहार

खबरें बिहार की जानकारी

यूक्रेन से जहान बचाकर बिहार आए 797 स्टूडेंट्स को अब भविष्य की चिंता है। हालात बेकाबू होने से ब्रेक हुई पढ़ाई अब संकट में है। स्टूडेंट्स की आगे पढ़ाई कैसे होगी यह बड़ा सवाल है। अब स्टूडेंट्स और उनके गार्जियन सरकार से गुहार लगा रहे हैं। बिहार सरकार अब तक इस मुद्दे पर कोई रणनीति नहीं बनाई है। अब तक बच्चों को सुरक्षित लाने को लेकर ही सरकार के स्तर से प्रयास किया जा रहा था।

स्टूडेंट्स ने कहा अब भविष्य की चिंता

यूक्रेन में पढ़ाई करने वाले भागलपुर के सत्यम झा, खगड़िया के अंकित राज, भोजपुर के नीरज कुमार सिंह, पश्चिमी चंपारण के प्रशांत मिश्रा और औरंगाबाद के आनंद कुमार गुरुवार रात घर पहुंच गए हैं। स्टूडेंट्स का कहना है कि अब पढ़ाई ब्रेक हो गई है। आगे इसे कैसे पूरा किया जाएगा कोई संभावना नहीं दिख रही है। अधिकतर ऐसे स्टूडेंटस का कहना है कि घर वालों ने कर्ज लेकर पढ़ाई के लिए यूक्रेन भेजा था लेकिन अब संकट पढ़ाई पर है। सरकार से मांग कर रहे हैं कि उनकी मदद की जाए जिससे पढ़ाई आगे जारी हो सके।

यूक्रेन से पटना आए 146 स्टूडेंट्स

पटना में अब तक 146 स्टूडेंट्स यूक्रेन से जान बचाकर आ चुके हैं। सरकार के मुताबिक बिहार में सबसे अधिक पटना के ही यूक्रेन में फंस हुए थे। स्टूडेंटस का कहना है कि घर पहुंचने के बाद वह सुरक्षित तो हो गए हैं लेकिन अब नई चिंता पढ़ाई को लेकर है। पटना के रहने वाले राजा बताते हैं कि अब वह सुरक्षित पटना तो पहुंच गए हैं लेकिन चिंता पढ़ाई पर अधिक है। भारत सरकार और बिहार सरकार से मांग की जा रही है कि वह इस समस्या को लेकर गंभीरता से काम करे। हर स्टूडेंट्स की पीड़ा एक जैसी ही है। गार्जियन पहले बच्चों की जान की सुरक्षा को लेकर चिंता में थे लेकिन अब उन्हें उनके भविष को लेकर चिंता है।

बिहार के सभी जिलों से फंसे थे स्टूडेंट्स

यूक्रेन में बिहार के सभी जिलों के स्टूडेंट्स फंसे हुए थे। अब तक हर जिले में स्टूडेंट्स की वापसी हुई है। इसमें सबसे अधिक पटना में 146 स्टूडेंट्स अब तक आए हैं। जबकि नालंदा में 32, भोजपुर में 14, बक्सर में 7, रोहतास में 12, कैमूर में 6, मुजफ्फरपुर में 30, सीतामढ़ी में 41, वैशाली में 25, शिवहर में 5, पश्चिमी चंपारण में 28, पूर्वी चंपारण में 62, छपरा में 19, सीवान में 29, गोपालगंज में 25, दरभंगा में 15, मधुबनी में 14, समस्तीपुर में 25, सहरसा में 13, मधेपुरा में 11, सुपौल में 18, पूर्णिया में 23, कटिहार में 23, अररिया में 13, किशनगंज में 10, भागलपुर में 29, बांका में 5, मुंगेर में 9, जमुई में 6, लखीसराय में 10, शेखपुरा में 2, बेगूसराय में 23, खगड़िया में 19, गया में 41, औरंगाबाद में 8, नवादा में 8, अरवल में 6 और जहानाबाद में 7 स्टूडेंटस आए हैं। यूक्रेन से आने वालों का सिलसिला जारी है, गुरुवार रात में भी 5 स्टूडेंट्स आए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.