क्रिकेट वनडे मैचों में हाल ही में लगे रनों के अंबार से चिंतित चैंपियन क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर ने इस फॉर्मेट में दो नई गेंदों के इस्तेमाल की आलोचना करते हुए कहा कि यह नाकामी को न्यौता देने जैसा है. इंग्लैंड ने हाल ही में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ वनडे में सर्वोच्च स्कोर बनाया.

तेंदुलकर ने ट्विटर पर लिखा, “वनडे में दो नई गेंदों का इस्तेमाल नाकामी को न्यौता देने जैसा है. गेंद को उतना समय ही नहीं मिलता कि रिवर्स स्विंग मिल सके. हमने डैथ ओवरों में लंबे समय से रिवर्स स्विंग नहीं देखी.”


इंग्लैंड ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ तीसरे वनडे में छह विकेट पर 481 रन बनाए. अगले वनडे में 312 रन का लक्ष्य 45 ओवरों में हासिल कर लिया.

रिवर्स स्विंग के महारथी पाकिस्तान के वकार युनूस ने तेंदुलकर का समर्थन करते हुए कहा, “यही वजह है कि अब आक्रामक तेज़ गेंदबाज़ नहीं निकलते. सभी रक्षात्मक खेलते हैं. सचिन से पूरी तरह सहमत हूं. रिवर्स स्विंग लुप्त ही हो गई है.” आईसीसी ने अक्तूबर 2011 में वनडे में दो नई गेंदों का प्रयोग शुरू किया था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here