पढ़ाई में मन नहीं लगता था, 8वीं में फेल के बाद छोड़ी पढाई, आज CBI और मुकेश अंबानी भी लेते हैं सलाह

राष्ट्रीय खबरें

कहते हैं पढ़ोगे-लिखोगे बनोगे नवाब, खेलोगे-कूदोगे बनोगे खराब… ये कहावत हर माता-पिता अपने बच्चे को कहता है। लेकिन मुंबई के एक लड़के ने इस कहावत को ही उलटा कर दिया।

मुंबई के रहने वाले त्रिशनित अरोड़ा को पढ़ाई में बिलकुल मन नहीं लगता था, उसका परिवार हमेशा उसको कोसते रहता था। कुछ कर ले। तेरे काम आएगा मगर वो इन चीजों को नजरअंदाज करके जो मन करा वो करता रहा।

उसकी रुची ही उनकी सफलता बनी और आज वो महज 23 साल की उम्र में साइबर सिक्युरिटी एक्सपर्ट बन चुके हैं। ह्यूमन ऑफ बॉम्बे के फेसबुक पेज पर उनकी इंस्पिरेशनल स्टोरी शेयर हुई थी। जिसमें बताया गया है कि कैसे वो स्कूल की पढ़ाई छोड़कर भी अपना मुकाम हासिल किया।

त्रिशनित अरोड़ा की लाइफ में एक वक्त ऐसा आया जिससे उनकी जिंदगी बदल गई। एक दिन त्रिशनित की स्कूल प्रिंसिपल ने उनके माता-पिता को स्कूल बुलाकर कहा कि उनका बच्चा 8वीं में फेल हो गया है। जिसके बाद उनके माता-पिता ने पूछा आखिर वो करना क्या चाहते हैं। जिसके बाद उन्होंने फैसला लिया कि वो कम्प्यूटर में ही अपना करियर बनाएंगे।

जिसके बाद पिता के कहने पर उन्होंने स्कूल छोड़ दिया और कम्प्यूटर की बारीकियां सीखने लगे। 19 साल की उम्र में वो कम्प्यूटर फिक्सिंग और सॉफ्टवेयर क्लीनिंग करना सीख गए थे। जिसके बाद वो छोटे प्रोजेक्ट्स पर काम करने लगे। 8वीं फेल होने के बाद उन्होंने स्कूल से दूरी बना ली लेकिन उन्होंने 12वीं डिस्टेंस एज्यूकेशन से की और बीसीए कंप्लीट किया। लेकिन उससे पहले ही वो मुकाम हासिल कर चुके थे।

उनकी मानें तो भारत में उनकी कंपनी के चार ऑफिस हैं और दुबई में भी एक ऑफिस है। करीब 40% क्लाइंट्स इन्हीं ऑफिसेस से डील करते हैं। एक अनुमान के मुताबिक, उनका सालाना टर्नओवर 2000 करोड़ से ज्यादा का है।

दुनियाभर में 50 फॉर्च्यून और 500 कंपनियां क्लाइंट हैं। त्रिशनित का सपना है कि वो बिलियन डॉलर सेक्यूरिटी कंपनी खड़ी करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.