प्राइड परेड , यानी कि अपने अस्तित्व को अपनाने और उसकी खुशी जाहीर करने की परेड । पटना में प्राइड परेड होना पहली बार की कहानि नहीं है। इसके पहले भी 2012में पटना ने प्राइड परेड देखा था।  इस बार की प्राइड परेड बहोत खास रही।  इस बार के परेड में लोगों ने बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया ।

पटना वोमेन्स कॉलेज की छात्राओं ने भी भारी संख्या में आ कर अपनी उपस्थिति दर्ज की ।

14 जुलाई 2019 के पटना में आयोजित प्राइड परेड बिहार हिंदी साहित्य सम्मेलन सर निकल कर कालिदास रंगशाला तक गई । इस फ़िल्म की एक खास बात ये भी थी कि इसमें हिस्सा लेने के लिए लोग दूर दराज से आये।  श्री पद्मश्री नृत्यांगना सुश्री नटराज भी इस परेड में हिस्सा लेने चेन्नई से आयीं थीं । तमिलनाडु सरकार ने ट्रांसजेंडर नृत्यांगना नटराज जी की जीवनी को कक्षा ग्यारहवीं के छात्रों के टेस्टबुक में जुड़वा दिया है ।

ज़ेवियर्स कॉलेज के थिएटर क्लब ने नुक्कड़ नाटक और फ़्लैश मॉब का प्रदर्शन किया।  नुक्कड़ नाटक के माध्यम से उन्होंने LGBT शब्दों का मतलब आम जनता को समझाया और 377 के लागू होने का मतलब भी बताया ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here