pooja-special-train-to-be-run-from-september-20

15 सितंबर तक 75 ट्रेनें हुई रद्द, दुर्गापूजा में घर आने वाले लोगों को होगी काफी परेशानी

राष्ट्रीय खबरें

बाढ़ की वजह से बाधित हुयी रेल परिसेवा सामान्य होने में अभी समय लगेगा. दुर्गापूजा की छुट्टी में घूमने का मिजाज बनाये बैठे लोगों की योजना पर इसका गहरा असर पड़ेगा. 15 सितंबर से पहले रेल सेवा सामान्य होने के कोई आसार नहीं दिख रहे हैं. पूर्वोत्तर सीमांत रेलवे की तमाम कोशिशों के बाद भी देश के विभिन्न भागों के साथ रेल संपर्क सामान्य नहीं हो पाया है. उत्तर पूर्वी भारत का दूसरे बड़े स्टेशन न्यू जलपाईगुड़ी से होकर कोलकाता व पड़ोसी राज्य बिहार के रास्ते दिल्ली, मुम्बई सहित देश के विभिन्न कोनों को जाने वाली 6 दर्जन से अधिक ट्रेनें अगले 15 सितंबर तक रद्द कर दी गयी है.

उत्सव मिजाजी लोगों की योजना पर बाढ़ ने पानी फेर दिया है. पिछले महीने उत्तर बंगाल में भारी बारिश ने रेल परिसेवा को काफी नुकसान पहुंचाया. पड़ोसी राज्य बिहार में भी बाढ़ ने काफी तबाही मचायी. सुधानी, तेलता, किशनगंज, मालदा, उत्तर व दक्षिण दिनाजपुर आदि इलाके में रेलवे ट्रैक को बाढ़ से नुकसान हुआ है. कई रेलवे ब्रिज क्षतिग्रस्त हुए हैं. हांलाकि युद्धस्तर पर मरम्मती का कार्य जारी है. कई स्थानों पर मरम्मती कार्य पूरा कर ट्रायल रन भी पूरा हो चुका है. मालगाड़ियों के अलावा कई पैसैंजर ट्रैन भी रेलवे ट्रैक पर दौड़ी है. मिली जानकारी के अनुसार सुधानी-तेलता में क्षतिग्रस्त दोनों रेलवे ब्रिज में से मात्र डाउन लाइन की मरम्मती का कार्य पूरा किया गया है. एक ही ट्रैक से अप व डाउन गाड़ियों की आवाजाही करायी जा रही है.

उल्लेखनीय है कि दुर्गापूजा की छुट्टी में प्रतिवर्ष लोग घूमने निकलते हैं. कोलकाता में दुर्गापूजा देखने के लिए उत्तर बंगाल से काफी लोग जाते हैं. इसके अलावा उत्सव की छुट्टी का पूरा आनंद लेने के लिए लोग पहले से ही देश के विभिन्न भागों में घूमने की योजना बनाये रखते हैं. कुछ लोग तो आने-जाने के लिए ट्रेनों में बुकिंग तक करा लेते हैं. लेकिन इस बार उत्तर बंगाल के उत्सवी मिजाज लोगों की योजना पर पानी फिरने की संभावना है. न्यू जलपाईगुड़ी से होकर कोलकाता, दिल्ली, मुम्बई सहित देश के विभिन दिशाओं को जानेवाली करीब छह दर्जन से अधिक ट्रेनें रद्द कर दी गयी है.
इसके अतिरिक्त आनंद विहार से जोगबनी जानेवाली सीमांचल एक्सप्रेस को 15 सितंबर तक फारबिसगंज स्टेशन तक नियंत्रित किया गया है. 16 सितंबर तक यह ट्रेन फारबिसगंज से ही रवाना होगी. कोलकाता-जोगबनी एक्सप्रेस को 13 सितंबर तक फारबिसगंज स्टेशन तक ही चलेगी. ओखा-गुवाहाटी एक्सप्रेस 15 सितंबर तक कटिहार तक ही चलेगी. गांधीधाम-कामाख्या एक्सप्रेस को 13 सितंबर तक कटिहार से ही चलाया जायेगा.

ये ट्रेनें हैं रद्द :
पूर्वोत्तर सीमांत रेलवे मालीगांव से मिली जानकारी के अनुसार न्यू जलपाईगुड़ी से हावड़ा जाने वाली शताब्दी एक्सप्रेस 15 सितंबर तक रद्द है. सिलीगुड़ी शहर से कोलकाता जाने वाली ट्रेनों में शताब्दी काफी महत्वपूर्ण ट्रेन है. इसके अतिरिक्त न्यू जलपाईगुड़ी से सियालदह जाने वाली दार्जिलिंग मेल, अलीपुरद्वार से न्यू जलपाईगुड़ी के रास्ते सिलायदह को जाने वाली पदातिक एक्सप्रेस, गुवाहाटी से हावड़ा जाने वाली सराईघाट एक्सप्रेस, न्यू अलीपुरद्वार से सियालदह जाने वाली तीस्ता तोर्सा एक्सप्रेस, न्यू कूचबिहार से सियालदह जाने वाली उत्तरबंग एक्सप्रेस, अलीपुरद्वार जंक्शन से सियालदह को जानेवाली कंचनकन्या एक्सप्रेस, न्यू जलपाईगुड़ी से चेन्नई, न्यू तिनसुकिया से बंगलुरू एक्सप्रेस, न्यू जलपाईगुड़ी-रांची एक्सप्रेस, कामाख्या-भगत की कोठी, गुवाहाटी-चेन्नई एक्सप्रेस ट्रेन 15 सितंबर तक रद्द है.

असम के डिब्रूगढ़ से दिल्ली जाने वाली राजधानी एक्सप्रेस, कामाख्या-जयपुर एक्सप्रेस, डिब्रूगढ़-झाझा एक्सप्रेस, कामाख्या-पुरी एक्सप्रेस, कामाख्या-आनंदविहार एक्सप्रेस, गुवाहाटी-लोकमान्य तिलक एक्सप्रेस, गुवाहाटी सिकंदराबाद एक्सप्रेस. गुवाहाटी-बीकानेर ट्रेन 14 सितंबर तक रद्द है. हल्दीबाड़ी-कोलकाता, गुवाहाटी-नई दिल्ली, न्यू जलपाईगुड़ी-अमृतसर, गुवाहाटी-त्रिवेंद्रम, गुवाहाटी-कोलकाता, कामाख्या-यशवंतपुर, गुवाहाटी से जम्मूतवी जाने वाली अमरनाथ एक्सप्रेस, न्यू जलपाईगुड़ी-हावड़ा एक्सप्रेस ट्रेन 13 सिंतबर तक रद्द रहेगी.

इसके अतिरिक्त सिलचर-नई दिल्ली, कामाख्या-गया, गुवाहाटी से जम्मूतवी जाने वाली लोहित एक्सप्रेस आदि ट्रेन 11 सितंबर तक रद्द है. न्यू जलपाईगुड़ी से चलकर सीतामढ़ी जाने वाली साप्ताहिक एक्सप्रेस, डिब्गूगढ़-अमृतसर एक्सप्रेस ट्रेन 12 सिंतबर तक रद्द है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.