नए साल में इस नए रूट पर दौड़ सकती है ट्रेन, कोसी और सीमांचल के लोगों को होगा फायदा

खबरें बिहार की

पटना: सहरसा-फारबिसगंज रेलखंड पर सरायगढ़ और ललितग्राम रेलवे स्टेशन के बीच तेजी से चल रहे अमान-परिवर्तन कार्य एवं सरायगढ़-निर्मली नई रेल लाइन में कार्य की तेजी इस बात की ओर इशारा कर रही है कि नये साल में ट्रेन नई दूरी नाप सकती है। फिलहाल ट्रेन का परिचालन सहरसा से राघोपुर और आसनपुर कुपहा तक ही हो रहा है। उम्मीद है कि नये साल में ट्रेन नई दूरी नापते हुए आसनपुर कुपहा से निर्मली और राघोपुर से ललितग्राम तक जाने लगेगी। इससे यात्रियों को काफी सहूलियत हो जाएगी और निर्मली और झंझारपुर के बीच चल रहे अमान-परिवर्तन के कार्य के बाद दो भागों में विभक्त मिथिला ट्रेन के माध्यम से एक सूत्र में बंध जाएगा।

1934 के भूकंप में रेल लाइन हो गया था ध्वस्त

1934 से पूर्व सरायगढ़ और निर्मली के बीच ट्रेन का परिचालन हो रहा था। मीटर गेज पर सरायगढ़ और निर्मली के बीच ट्रेनों की आवाजाही थी। इस साल के भूकंप ने इस रेलखंड का ध्वस्त कर दिया और रेल का परिचालन पूर्ण रूप से बाधित हो गया।

भूकंप के कारण रेल पुल भी ध्वस्त हो गया था। 2003 में तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने कोसी नदी पर रेल महासेतु की नींव रखी और लोगों में आस जगी कि दो भागों विभक्त मिथिला का एक बार फिर से एकीकरण होगा। अमान-परिवर्तन के कार्य के बाद सहरसा से कोसी नदी पर बने रेल महासेतु के रास्ते ट्रेन आसनपुर कुपहा तक पहुंच गई। अब ट्रेन के निर्मली पहुंचने का इंतजार हो रहा है।

इधर रेलवे के काम में तेजी आई है। निर्मली तक रेल पटरी और रेल लाइन बिछा दी गई है। विभाग का भी प्रयास है कि नये साल के शुरुआती महीनों में इस रेलखंड पर रेल का परिचालन सुनिश्चित कर दिया जाए।

2008 के कुसहा-त्रासदी में सहरसा-फारबिसगंज रेलखंड पर के राघोपुर और ललितग्राम के बीच कई जगह बाढ़ का कहर बरपा था और रेल पथ छिन्न-भिन्न हो गया था। कुछ दिन तो मरम्मत कर इस रेलखंड पर सहरसा से प्रतापगंज तक ट्रेन का परिचालन करवाया गया।

रेलवे का प्रयास है कि 2021 के मार्च से पहले ललितग्राम रेलवे सटेशन तक ट्रेन का परिचालन सुनिश्चित कराया जाए। आमान-परिवर्तन के क्रम में ललितग्राम स्टेशन तक पटरी और रेल लाइन बिछाने का काम पूरा कर लिया गया है। अब ब्लाङ्क्षस्टग का कार्य चल रहा है और जल्द ही स्पीड ट्रायल और सीआरएस निरीक्षण के बाद ललितग्राम रेलवे स्टेशन तक ट्रेन के परिचालन को हरी झंडी दे दी जाएगी। नये साल में जहां ट्रेन के नयी दूरी नापने की आस है वहीं लगभग नौ साल से रेल सुविधा से बेजार लोगों को भी रेल से यात्रा करने का मौका मिलने वाला है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *