Tiolet Ek Prem Katha

पटना में फिल्म Toilet Ek Prem Katha के पोस्टर की तस्वीर और सामने खड़ा आदमी, ये फोटो कुछ तो कहती है

मनोरंजन

बॉलीवुड के मशहूर अभिनेता अक्षय कुमार की आगामी फिल्म Toilet Ek Prem Katha 11 अगस्त, यानी इसी शुक्रवार को रिलीज हो रही है। बिहार की राजधानी पटना में भी जगह-जगह उसके पोस्टर लगे हैं।

स्वच्छता अभियान पर बनी यह फिल्म काफी चर्चा में है। पटना में भी इस फिल्म की चर्चा है। चौक-चौराहे पर पोस्टर लगे हुए हैं, फिल्म की एक तस्वीर प्रभात खबर के फोटोग्राफर ने खिंची है, जिसे लोग काफी पसंद कर रहे हैं।

अक्षय कुमार की फिल्म के इस पोस्टर के ठीक सामने ही एक व्यक्ति खुले में लघुशंका कर रहा है। तस्वीर काफी रोचक बन पड़ी है और इसे लोग काफी पसंद कर रहे हैं। Toilet Ek Prem Katha एक आगामी हिंदी फिल्म है जिसका निर्देशन नारायण सिंह ने किया है।




यह एक हास्य-व्यंग्य फिल्म है जो ग्रामीण इलाकों में स्व्च्छाता के महत्व जैसे गंभीर मुद्दे पर प्रकाश डालती है। फिल्म की कहानी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्वंच्छ‍ भारत अभियान से प्रेरित है।

लोग अकसर स्विट्जरलैंड व लंदन जैसे शहरों की सफाई का उदाहरण देते हुए पटना शहर की सफाई व्यवस्था के लिए सरकार व नगर निगम को कोसते हैं। स्मार्ट सिटी के ख्वाब पर तंज कसा जाता है।




लेकिन, यह भूल जाते हैं कि अगर हमने किसी की तरफ एक अंगुली उठायी है तो तीन अंगुलियां हमारी तरफ भी उठ रही हैं। शहर स्वच्छ रहे, इसकी जितनी जिम्मेदारी निगम की है, उतनी हमारी भी है।

प्रभात खबर के फोटो जर्नलिस्ट सरोज कुमार की यह तस्वीर हमारी मानसिकता पर सवाल खड़ी कर रही है। शहर के प्रतिष्ठित मौर्या होटल के समीप छज्जूबाग कॉर्नर की इस सड़क पर कूड़ा फेंकने को डस्टबीन लगा है।




उसके चारों तरफ ब्लीचिंग व चूने का छिड़काव भी किया गया है। शौचालय व स्वच्छता को लेकर जागरूकता फैलाने वाली फिल्म Toilet Ek Prem Katha का पोस्टर भी लगा है।

मगर इतनी बेहतर सफाई व्यवस्था के बीच एक इंसान पेशाब कर रहा है। ऐसी सोच लेकर हम स्मार्ट सिटी तो दूर, स्वच्छ शहर की कल्पना भी नहीं कर सकते।




फिल्म में अक्षय- केशव और भूमि- जया के रोल में हैं। जया और केशव को एक-दूसरे से प्यार हो जाता है और दोनों शादी कर लेते हैं। लेकिन केशव के घर में टॉयलेट नहीं है इस बात की जानकारी जया को नहीं थी।

जब उसे ये बात पता चलती है तो वो घर छोड़कर चली जाती है। अपनी पत्नी को वापस लाने के लिए केशव अपने घर में शौचालय बनवाने का फैसला लेते हैं। लेकिन यह इतना आसान भी नहीं होता।




इसके जरिए सिस्टम में फैले भ्रष्टाचार को भी दिखाया गया है। इसके पहले फिल्म के कई पोस्टर्स भी रिलीज किए गए हैं। अलग विषय पर बनने के कारण इस फिल्म की चर्चा बहुत दिनों से हो रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.