इस शख्स ने अपने पूरे गांव को बना डाला बॉलीवुड, बच्चे से लकर बूढ़े तक करते हैं एक्टिंग, 250 से ज्यादा फिल्में बनाई

कही-सुनी

पटना: भारत में 8 नवम्बर 1977 को एक फिल्म आई थी ‘चला मुरारी हीरो बनने’। फिल्म में हास्य कलाकार असरानीहीरो बनने की चाह में बॉलीवुड मुम्बई जाते हैं, मगर यह मुरारी मुम्बई नहीं गया बल्कि अपने गांव को ही बॉलीवुड बना लिया। इसका नाम है मुरारी लाल पारीक।

देसी अंदाज की मारवाड़ी कॉमेडी की वजह लोगों के दिलों में जगह बनाते जा रहे मुरारी लाल पारीक राजस्थान के चूरू जिले की रतनगढ़ तहसील के गांव गोगासर रहने वाले हैं। गोगासर में ही मुरारी लाल हास्य की छोटी-छोटी फिल्में बनाते हैं, जिन्हें यूट्यूब चैनल व व फेसबुक पेज पर अपलोड कर दिया जाता है।

मुरारी लाल की कॉमेडी को लोग खूब पसंद कर रहे हैं। इसी वजह से यूट्यूब चैनल के सबस्क्राइब और एफबी पेज पर फॉलोअर्स की संख्या दिनोंदिन बढ़ती जा रही है। चैनल के तीन लाख 37 हजार सबस्क्राइब हैं।

जानिए मुरारी लाल के बारे में खास बातें

-मुरारी लाल व इनकी टीम अब तक गांव में 250 से ज्यादा वीडियो शूट कर चुके हैं।

– टीम में मुरारी लाल के अलावा अबोहर पंजाब के पंकज पूनिया, गोगासर का भवानी पारीक और सिरसा का लोकेश धांधल भी है।

-वीडियो मुरारी की कॉकटेलमुरारी की मस्तीकॉमेडी विद मुरारी और कॉमेडी टीवी नाम से बने चैनल व एफबी पेज पर अपलोड हैं।

-दिल वाले दुल्हनिया ले जाएंगे, घातक, घडकऩ, वांटेड और शोले की कॉमेडी वाले मुरारी के वीडियो काफी पसंद किए गए।

-अब गदऱ एक प्रेम कथा पर हास्य वीडियो शूट किया गया है, जो जल्द दर्शकों को देखने को मिलेगा।

-मुरारी के कॉमेडी वीडियो में नजर आने वाले बच्चे से लेकर बूढ़े तक सभी गांव गोगासर के ही रहने वाले हैं।

-मुरारी की हास्य फिल्मों में ग्रामीणों को उनकी कद-काठी व स्क्रीप्त के हिसाब से रोल दिए जाते हैं।

-वीडियो बनाने के लिए कोई सेट तैयार नहीं किया जाता। लोगों के घरों में, दुकानों पर और होटल-ढाबे सब गांव के लोगों के हैं।

-मुरारी लाल के वीडियो में रोल करने से लेकर शूट के लिए जगह उपलब्ध कराने में ग्रामीणों का उत्साह देखते बनता है।

-गांव के लोगों का मानना है कि मुरारी लाल के हास्य वीडियो की वजह से गांव गोगासर भी फेमस हो रहा है।

-मुरारी का गांव गोगासर रतनगढ़ से 15 किमी, जिला मुख्यालय चूरू से 42 किमी और राजधानी जयपुर से 221 किमी दूर है।

गांव की महिलाओं ने दिए कपड़े
मुरारी की कॉमेडी वीडियो बनवाने में ग्रामीणों का सहयोग का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि मुरारी मां व दादी के किरदार भी खुद ही करता है। यही किरदार मुरारी लाल के दिल के सबसे करीब है। इसके लिए लहंगा, चूनरी, चोली, कांचली और बोरला तक गांव की महिलाओं ने मुरारी को उपलब्ध करवाए हैं।

गांव पुलासर में स्टूडियो
बकौल मुरारी, मेरे लिए तो मेरा गांव गोगासर ही बॉलीवुड है। यहां मुझे लोकेशन, कास्ट, क्राउड और कॉस्टयूम तक सब कुछ ऑरिजनल मिल जाता है। यह बात अलग है कि मुरारी ने अपना स्टूडियो नजदीक के गांव पुलासर में बना रखा है।

मुरारी को मिले अवार्ड
मारवाड़ी कॉमेडी में मुरारी का बड़ा नाम है, जो किसी परिचय का मोहताज नहीं है। कॉमेडी के दम पर मुरारी को कई अवार्ड मिल चुके हैं। बीकानेर में सब टीवी चाय पर चुटकुले बेस्ट इंटरनेटर का अवार्ड मुरारी को ही दिया गया था। इसके अलावा राजस्थान फिल्म फेस्टिवल 2015 में मुरारी की फिल्म मेरो बदलो को कुल पांच अवार्ड मिले, जिनमें दो अवार्ड मुरारी को बेस्ट स्क्रिप्ट व बेस्ट स्टेारी के लिए मिला।

फिल्म सुल्तान में किया रोल
मुरारी लाल पारीक को अभिनय का शौक बचपन से ही था। यह कम ही लोग जानते हैं कि मुरारी लाल को हिन्दी फिल्मों में भी काम मिल चुका है, हालांकि रोल काफी छोटे थे। सलमान खान की फिल्म सुल्तान और नवाजुद्दीन सिद्दिकी की फीक्री अली में काउंड सीन में मुरारी लाल पारीक भी थे।

इसके अलावा डीडी वन पर प्रसारित होने वाले सीरियल रणभेरी में मुरारी लाल नजर आ चुके हैं। मुरारी लाल अच्छे स्क्रिप्त राइटर भी हैं। राजस्थानी फिल्म ‘मेरो बदलो’ की स्क्रिप्त मुरारी लाल ने ही लिखी थी। फिल्म सरदारशहर निवासी महेन्द्र गौड़ के डायरेक्शन में बनी थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.