इस दिन है सावन की शिवरात्रि, जानें इसका महत्व और शुभ मुहूर्त

आस्था

Patna: भगवान शिव का प्रिय महीना सावन 25 जुलाई से शुरू हो चुका है. ये महीना धार्मिक दृष्टि से बेहद खास माना जाता है. सावन के इस पावन महीने में भगवान के शिव की पूजा करने से सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं. माना जाता है कि सावन में भगवान शिव की विधिवत पूजा-उपासना करने से विवाह में आ रही बाधाएं दूर होती हैं. इसी के साथ लंबी उम्र का वरदान भी प्राप्त होता है. हिंदू पंचाग के अनुसार हर महीने कृष्ण पक्ष के 14वें दिन को मासिक शिवरात्रि मनाई जाती है. लेकिन सावन में आने वाली शिवरात्रि को सावन शिवरात्रि कहते हैं. आइए जानते हैं सावन में पड़ने वाली शिवरात्रि का महत्व और इसका शुभ मुहूर्त.

साल में 12 शिवरात्रि आती हैं. लेकिन इन 12 शिवरात्रि में से 2 शिवरात्रि का सबसे अधिक महत्व माना जाता है. फाल्गुल मास में पड़ने वाली शिवरात्रि को महाशिवरात्रि कहते हैं और सावन मास में पड़ने वाली शिवरात्रि को सावन शिवरात्रि कहा जाता है. हिंदू पंचांग के अनुसार, सावन मास की कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को शिवरात्रि का व्रत रखा जाता है. इस बार सावन शिवरात्रि 7 अगस्त दिन शनिवार को मनाई जाएगी.

तिथि के अनुसार, 7 अगस्त की सुबह शिवलिंग पर जल अर्पित किया जाएगा. इस दिन भगवान शिव के शिव परिवार की पूजा की जाती है. इस दिन व्रत, उपवास, मंत्रजाप तथा रात्रि जागरण का विशेष महत्व है. माना जाता है कि इस दिन भगवान शिव के साथ मां गौरी की पूजा करने से वैवाहिक जीवन की सभी समस्याएं समाप्त हो जाती हैं.

सावन शिवरात्रि शुभ मुहूर्त- सावन मास की चतुर्दशी तिथि 6 अगस्त 2021 को शाम 6 बजकर 28 मिनट से शुरू होकर 7 अगस्त 2021 की शाम 7 बजकर 11 पर समाप्त होगी. यानी उदय तिथि के अनुसार, 7 अगस्त की सुबह के समय शिवरात्रि तिथि आरंभ होगी. सावन शिवरात्रि के दिन शिवलिंग पर गंगाजल और दूध से अभिषेक जरूर करें. इसके अलावा, आटे के 11 शिवलिंग बनाकर हर एक शिवलिंग का 108 बार अभिषेक करें और ऊं नम: शिवाय मंत्र का जाप करें. ऐसा करने से संतान प्राप्ति की समस्याएं दूर होंगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published.