रामनवमी पर लगातार दूसरे साल भी नहीं मिलेगी पटना के हनुमान मंदिर में एंट्री, ऐसे करवाएं पूजा

आस्था

पटना: मंगलवार को कलश स्थापना के साथ ही चैत्र नवरात्र (Chaitra Navratra 2021) के नौ दिनों का अनुष्ठान शुरू हो गया है लेकिन इस बार भी पिछले साल की तरह नवरात्र (Navratra) के दौरान कोई बड़ा कार्यक्रम नहीं होगा. रामनवमी के दिन पटना के प्रसिद्ध हनुमान मंदिर (Patna Hanuman Mandir) में भी भक्तों को प्रवेश नहीं मिल सकेगा.

रामनवमी के मौके पर हर साल यहां बड़ा कार्यक्रम आयोजित होता रहा है. रामनवमी के दिन भारी संख्या में भक्त हनुमान जी के दर्शन करने यहां पहुंचते हैं. मंदिर के बाहर 2 किलोमीटर तक लंबी कतार में लोग खड़े होकर हनुमान मंदिर में पूजा करते हैं लेकिन कोरोना के चलते पिछले साल भी सादगी से इसे मनाया गया और एक बार फिर इस साल कोरोना के चलते इस आयोजन पर विराम लग गया है.

महावीर मंदिर न्यास के सचिव आचार्य किशोर कुणाल ने बताया की रामनवमी के दिन महावीर हनुमान, भगवान राम और सभी देवी-देवताओं को नये वस्त्र धारण कराये जायेंगे. इस अवसर पर महावीर मंदिर में तीनों स्थानों पर लगे ध्वज बदले जायेंगे. जिन भक्तों ने ध्वजारोहण की रसीद कटायी है, उनके नाम और गोत्र आदि के संकल्प के साथ कार्यालय के पास निर्धारित स्थान पर नये ध्वज लगाये जायेंगे. राम जन्मोत्सव मनाया जायेगा. दोपहर 12 बजे आरती होगी और रात्रि में हवन होगा. मंदिर के नैवेद्यम काउंटरों पर नैवेद्यम सुबह से शाम सात बजे तक मिलेगा. नवरात्रि में पूजा कर नैवेद्यम व सिंदूर की होम डिलीवरी की ऑनलाइन बुकिंग हो रही है.

पटना के हनुमान मंदिर के 300 साल के इतिहास में लगातार दूसरे साल भक्त मंदिर में दर्शन नहीं कर सकेंगे. लॉकडाउन से पिछले वर्ष कलश स्थापन भी नहीं हो सकी था. रामनवमी के दिन दर्शन को हर साल आने वाले तीन से चार लाख श्रद्धालुओं को निराशा होगी. मालूम हो कि रामनवमी के अवसर पटना में भी भव्य झांकी और शोभा यात्रा का आयोजन हर साल किया जाता था लेकिन इस बार भी कोरोना के कारण इस पर विराम लग गया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *