दहेजमुक्त शादी की साक्षी बनी मिथिला की धरती, गामी परिवार ने समाज को दी नई प्रेरणा

खबरें बिहार की

पटना: सरकार के दहेजमुक्त समाज के अभियान को सार्थक बनाने के लिए हायाघाट विधानसभा के जदयू विधायक अमरनाथ ने अनूठी पहल की है। अपने भतीजे की शादी बिना बैण्ड बाजे, पटाखे व तामझाम से हटकर सादे समारोह के रूप में संपन्न कराकर दहेजमुक्त समाज के लिए मिसाल पेश की।

शहर के हसन चौक स्थित लक्ष्मेश्वर पब्लिक लाइब्रेरी में उन्होंने अपने भतीजे संकेत की शादी मधुबनी के विनोद कारक की पुत्री निकिता संग एक सार्वजनिक स्थल पर करते हुए समाज के लिए बेहतर पहल की है। आडंबरमुक्त व सादगीपूर्ण इस हाइप्रोफाइल शादी को ले पूरे शहर में कई दिनों से चर्चा चल रही थी। इस शादी समारोह में जदयू के राष्ट्रीय महासचिव संजय झा, खाद्य एवं उपभोक्ता मंत्री मदन सहनी, विधायक संजय सरावगी, पूर्व विधायक ऋषि मिश्र सहित इलाके के कई विधायक पूर्व व आम जनता ने वर-वधू को आशीर्वाद दे उनके सुखमय जीवन की कामना की।

जिले के इतिहास में पहली ऐसी शादी हुई जहां न कोई शोर-शराबा और न ही लाइटों की चकाचौंध थी। विवाह की सभी रस्म-रिवाज को बड़े ही सधारण ढंग से मनाया गया। वर वधु ने भी आपस में एक दूसरे के गले में जयमाला डाल कर नए दाम्पत्य जीवन की शुरुआत की। दुल्हन निकिता ने ईनाडु इंडिया से बात करते हुए कहा कि हम चाहते हैं कि समाज में दहेज मुक्त विवाह हो। इस सन्देश को फैलाने के लिए मैने दहेज मुक्त शादी की है। अगर लोग इसे अपना लें तो बेटियां बोझ नहीं रहेगी।

इतना ही नहीं उन्होंने कहा कि हमें बहुत ख़ुशी है कि हम पहला जोड़ा बने जो पूरे मिथिलांचल में दहेज मुक्त शादी का सन्देश समाज को दे रहा है। वहीं, अमरनाथ गामी ने कहा कि डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी के पुत्र के विवाह में दहेज मुक्त, आडंबरमुक्त व सादगीपूर्ण में विवाह से प्रेरणा लेकर सामाजिक स्तर पर लागू कराने का प्रयास है। इस विवाह से परिवार के लोग काफी उत्साहित हैं और किसी को कोई शिकायत नहीं है। समाज में फैली दहेजप्रथा को समाप्त करने के लिए हमने मिलकर एक छोटा सा प्रयास किया है।

Source: etv bihar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *