बिहार में डेंगू ले रहा महामारी का रूप! बढ़ रही है मरीजों की संख्या, ऐसे करें बचाव

खबरें बिहार की

पटना: बिहार में डेंगू का कहर गहराता जा रहा है. पीएमसीएच में लगातार डेंगू के मरीजों की संख्या में इजाफा हो रहा है. पटना के सबसे बड़े अस्पताल पीएमसीएच में अबतक 310 से ज्यादा मरीजों में डेंगू की पुष्टि हो चुकी है. अस्पताल में 20 से ज्यादा डेंगू के मरीज भर्ती हैं. मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए इमरजेंसी वार्ड में 16 अतिरिक्त बेड लगाए गए हैं. इससे पहले पटना में ही डेंगू से एक चिकित्सक की मौत हो चुकी है. अस्पताल के अधीक्षक डॉक्टर राजीव रंजन ने बताया कि डेंगू से निपटने के लिए अस्पताल प्रबंधन तैयार है.

पटना समेत अन्य जिलों में भी डेंगू के मरीजों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है. पटना के अलावा नवादा, सीवान, लखीसराय, सारण और औरंगाबाद जिलों के मरीज शामिल हैं. पीएमसीएच के अलावा डेंगू के मरीज पटना के इंदिरा गांधी आयुर्विज्ञान संस्‍थान (आइजीआइएमएस) में भी भर्ती किए गए हैं और मरीजों की संख्या रोज बढ़ रही है. दोनों अस्पतालों के डॉक्टर्स मरीजों की जांच और इलाज करने के अलावा लोगों से सावधानी बरतने की भी अपील कर रहे हैं. डॉक्टर्स के मुताबिक डेंगू के मरीजों की संख्या में लगातार हो रहा इजाफा त्योहार के सीजन में बाहर से आने वाले लोगों की वजह से भी है.

वहीं बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय और विभागीय प्रधान सचिव संजय कुमार ने दावा किया है कि राज्य में डेंगू और चिकनगुनिया रोग के कारण अब तक एक भी मौत नहीं हुई है. बिहार सरकार ने राज्य में पिछले साल की तुलना में डेंगू और चिकनगुनिया रोगियों की संख्या में कमी आने का दावा किया है.

मच्‍छरों से बचाव जरूरी

पीएमसीएच के वरीय फिजिशियन डॉ. बीके चौधरी के मुताबिक इन दिनों बड़ी संख्‍या में लोग पूजा की छुट्टी में बिहार आ रहे हैं. उनके माध्‍यम से डेंगू के मामले बढ़े हैं. उन्‍होंने बताया कि इस बीमारी से बचने के लिए मच्छरों से बचाव जरूरी है. सीवान के सिविल सर्जन डॉ. शिवचंद्र झा ने बताया कि डेंगू के मच्छर दिन के समय में काटते हैं. इसके उपचार के लिए कोई खास दवा या वैक्सीन नहीं है. बचने के लिए ऐसे कपड़े पहनने चाहिए, जिससे पूरा तन ढका रहे.

डेंगू के लक्षण

अचानक बुखार, सरदर्द, आंखों के पीछे दर्द, मांसपेशियों में दर्द के साथ सर्दी और उलटी जैसे लक्षण.

डेंगू के उपचार के कुछ घरेलू उपाय

  • डेंगू की स्थिति में आप डॉक्‍टर के संपर्क में जरूर रहें. हां, डॉक्‍टर की सहमति से कुछ घेरलू उपाय भी अपना सकते हैं. आइए देखें…
  • गिलोय के तने को उबालकर सेवन करें. साथ में तुलसी के कुछ पत्ते भी मिला लें.
  • पपीता के पत्ते प्लेटलेट्स व इम्‍युनिटी बढ़ाते हैं. इन पत्तों का जूस का सेवन करें.
  • दूध के साथ हल्दी मिलाकर लें.

Source: Live Cities News

Leave a Reply

Your email address will not be published.