लालू को “पिता तुल्‍य” बोल फसे तेजस्‍वी यादव, लोगों ने किया ट्रोल- “तो पिता कौन है?”

राजनीति

लालू यादव की राजद ने पटना में “भाजपा भगाओ, देश बचाओ” रैली आयोजित की थी जिसमें 17 दल शामिल हुए थे।

ट्व‍िटर पर ट्रोल हुए तेजस्‍वी यादव, लोग पूछ रहे- लालू को पिता तुल्‍य बताया तो पिता कौन है?

राष्ट्रीय जनता दल के नेता और बिहार के पूर्व उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ट्विटर पर ट्रोल हो रहे हैं। कई लोग कह रहे हैं क‍ि उन्‍होंने रविवार (27 अगस्‍त) को पटना की रैली में भाषण देते हुए लालू यादव को पि‍तातुल्‍य कह कर संबोधित किया। इसके बाद लोग ट्वि‍टर पर उनका मजाक बना रहे हैं और पूछ रहे हैं कि लालू पितातुल्य हैं तो फिर पिता कौन हैं?

हालांक‍ि, कुछ ट्वीट में ऐसा कहने वालों को एक तरह से चुनौती देते हुए यह भी कहा गया है क‍ि क‍िसी के पास लालू के इस वक्‍तव्‍य का वीड‍ियो हो तो वह शेयर करे। बता दें क‍ि रव‍िवार को राजद ने पटना में वि‍पक्षी पार्ट‍ियों की रैली की थी, ज‍िसमें उन्‍होंने करीब आधे घंटे का भाषण द‍िया था। इससे पहले दुनिया ने पहली बार ब‍िहार व‍िधानसभा में बतौर नेता प्रतिपक्ष उनका भाषण देखा-सुना था। तब उनके भाषण की काफी तारीफ हुई थी। रव‍िवार के भाषण को लेकर उन्‍हें ट्राेेेल करते हुए जो ट्वीट क‍िए जा रहे हैं।

लालू की कमान संभालेंगे तेजस्वी 

रैली के बाद पटना में पत्रकारों से बात करते लालू प्रसाद ने ये बातें कही। लालू ने कहा कि अगली रैली में सोनिया और मायावती भी एक मंच पर दिखेंगे। 27 अगस्त को पटना के गांधी मैदान में जुटी भीड़ से राजद प्रमुख लालू प्रसाद काफी खुश हैं।

लालू प्रसाद अब अपनी आगे की रणनीति बनाने में जुट गए हैं। लालू शीघ्र ही कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी और बसपा सुप्रीमो मायावती के साथ मंच साझा कर भाजपा का मुंह बंद करना चाह रही है। इसके लिए लालू प्रसाद ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव से भी बात की है।

बता दें कि पटना में आयोजित राजद की देश बचाओ भाजपा भगाओ रैली में सोनिया गांधी, राहुल गांधी और मायावती नहीं पहुंची थी। इसे लेकर सत्ता पक्ष लगातार लालू पर तंज कस रहा है। हालांकि सोनिया गांधी का रिकॉर्डेड भाषण मंच से सुनाया गया, जबकि राहुल गांधी के मैसेज को मंच से कांग्रेस के बिहार प्रदेश अध्यक्ष अशोक चौधरी ने पढ़ा था।

लेकिन, मायावती की ओर से किसी के नहीं आने से लालू प्रसाद को खटक रहा है। लालू प्रसाद इसके डैमेज कंट्रोल में लगे हुए हैं। बसपा प्रमुख मयावती मंच साझा करने से पहले गठबंधन के सभी दलों के साथ यूपी में सीटों का बंटवारा चाह रही है। इस कारण ही वो लालू प्रसाद की भाजपा भगाओ, देश बचाओ रैली में शामिल नहीं हुई।

लालू प्रसाद भी पत्रकारों से बातचीत में ये बात को स्वीकार किया है। लालू ने कहा कि इस मामले को शीघ्र ही हल कर लिया जायेगा। क्योंकि मायावती के साथ मिलकर सपा और कांग्रेस यूपी में अपना गठबंधन बनाती है तो भाजपा का खाता भी नहीं खुलेगा।

लालू प्रसाद ने कहा कि अगली दफा सोनिया गांधी और मायावती भी एक मंच पर दिखेंगी। लालू ने कहा कि ऐसा नहीं समझिए कि मायावती नहीं आयीं तो वे विपक्षी एकता से हट गयी हैं। लालू प्रसाद का दावा है कि मायावती पूरी तरह विपक्षी एकता के साथ हैं। अगली दफा दोनों एक मंच पर नजर आयेंगी।

पूरे देश में विपक्ष को एक मंच पर लाया जायेगा। इसके लिए रणनीति बनायी जा रही है। लालू प्रसाद ने आज पत्रकारों के सामने कहा कि मेरे बाद पार्टी की जिम्मेवारी तेजस्वी ही संभालेंगे।

पत्रकारों की ओर से पूछे गए सवाल का जवाब देते हुए लालू ने कहा कि सभा में तेज प्रताप ने भी कह दिया था की इस जंग का अर्जुन मेरा छोटा भाई तेजस्वी है। जब दोनों भाईयों ने ही अपने काम को बांट लिया है तो मैं कौन होता हूं इसमें दखल अंदाजी करने वाला।

Leave a Reply

Your email address will not be published.