तेजप्रताप के निशाने पर तेजस्वी यादव, बोले- मछली मारने की बजाय बच्चों को कलम-किताब देते

खबरें बिहार की

Patna: राष्ट्रीय जनता दल (राजद) सुप्रीमो लालू प्रसाद के परिवार में जारी शीत युद्ध के बीच तेजप्रताप यादव ने फिर से अपने भाई को नसीहत दे दी है. लालू प्रसाद आज पटना आ रहे हैं लेकिन उनकी बिहार में एंट्री से पहले ही तेजप्रताप यादव ने बयान देकर प्रेशर पॉलिटिक्स शुरू कर दी है. तेजप्रताप ने कहा है कि आरजेडी को कांग्रेस से अलग नहीं होना चाहिए. राजनीतिक दलों में उथल-पुथल लगी रहती है लेकिन राजद और कांग्रेस अंदर से एक ही हैं.

तेजप्रताप यादव ने शनिवार को मीडिया से बात करते हुए अपने छोटे भाई तेजस्वी यादव ने याद दिलाया कि जब विदेशी मूल के मुद्दे पर कांग्रेस में उथल-पुथल मची थी तो लालू प्रसाद ने सोनिया गांधी का साथ दिया था और उन्हें देश की बहू बताया था. तेजप्रताप यादव ने तेजस्वी यादव को सलाह देते हुए यहां तक कह दिया कि अगर उनको सीएम बनना है तो कांग्रेस से रिश्ता बना रहना चाहिए.

मुंगेर में चुनाव प्रचार के दौरान तेजस्वी यादव के मछली मारने पर भी तेजप्रताप ने व्यंग कसा और कहा कि तेजस्वी को बच्चों के साथ मछली मारने की जगह उन्हें कलम-किताबें देनी चाहिए. तेजप्रताप ने कहा कि बड़े भाई होने के नाते मैं कहना चाहता हूं कि तेजस्वी को अगर बिहार का सीएम बनना है, तो उनको इस तरह के कार्यों से बचना चाहिए.

तेजप्रताप यादव ने माना कि बिहार में कांग्रेस की स्थिति ठीक नहीं है और विधानसभा चुनाव में 70 सीट देने पर भी उनका परिणाम अच्छा नहीं रहा लेकिन साथ ही ये भी कहा कि अगर बिहार में सरकार बनानी है तो कांग्रेस को साथ लेकर चलना चाहिए था. गठबंधन से अलग होने से पहले हमें पुराने रिश्ते को याद रखना चाहिए था. कन्हैया के मसले पर तेजप्रताप ने कहा कि मैं उनसे ज्यादा प्रभावित नहीं रहता, वो आगे बढ़ रहे हैं ये अच्छा है. तेजप्रताप यादव ने यही भी कहा कि वो रविवार से उपचुनाव में प्रचार करने के लिए तैयार हैं. पहले तारापुर का प्लान है फिर कुशेश्वरस्थान भी जाना है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.