चार्जशीटेड होने पर इस्तीफा देना होगा तेजस्वी यादव और तेजप्रताप को

राजनीति

इनकम टैक्स के छापे के बाद भी लालू प्रसाद यादव और उनके पारिवारिक कुनबे के राजनीतिक और प्रशासनिक सेहत पर तत्काल कोई असर नहीं पड़ता दिख रहा है।

माना जा रहा है कि राजद अध्यक्ष को मंगलवार शाम को ही इस बात के संकेत मिल गए थे। उधर, कांग्रेस ने भी मन बना लिया है कि वो इस ‘संकट’ की इस घड़ी में ‘संकटमोचक’ रहे लालू लालू प्रसाद यादव के साथ मजबूती से खड़ी रहेगी।
शायद यही वजह है कि छापेमारी के अगले दिन यानी आज (17 मई की) सुबह से ही राजद सुप्रीमो थोड़ा फ्रेश मूड में दिखाई दिए और पटना आवास पर जुटे मुलाकातियों से अपने पुराने अंदाज में मिले। पत्रकारों को भी अंदर बुलाकर उन्होंने प्रसन्नचित मुद्रा में ही बातचीत की।
राजद खेमे के सूत्रों का कहना है कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने लालू प्रसाद यादव को स्पस्ट कह दिया है कि बेनामी सम्पति रखने के आरोप में उनके दोनो मंत्री पुत्रों के खिलाफ अगर चार्जशीट हो जाता है तब भी महागठबंधन की एकता बरकरार रहेगी।
बशर्ते, आरोपित दोनो मंत्रियों (तेजस्वी और तेज प्रताप यादव) को फौरन अपने पद से इस्तीफा देना होगा। माना जा रहा है कि इस पर लालू यादव ने भी सहमति दे दी है। दरअसल, राजद प्रमुख इस बात को अच्छी तरह से जानते और समझते हैं कि साफ छवि के प्रति सावधान रहने वाले नीतीश कुमार किसी भी हाल में चार्जशीटेड लोगों को अपने मंत्रिमंडल में नहीं रख सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.