कश्मीरी अपनी कश्मीरियत से ही संतुष्ट रहते थे, उन्हें पाकिस्तान से कभी कोई मतलब नहीं रहा

आज से 37 साल पहले 1981-82 में मैं बर्फबारी (स्नो फॉल) देखने कश्मीर गया था। दिसंबर का अंतिम और जनवरी का पहला सप्ताह था। कश्मीर की वह मेरी पहली यात्रा थी और शायद अंतिम भी। स्थितियाँ जिस तरह बदतर हुई हैं कि अब वहाँ एक बार फिर जाने की अभिलाषा पूरी नहीं हो पायेगी। एक […]

Continue Reading