फ़ादर्स डे पर बिहारी साहित्यकार ने बताया क्या होता है बाप बेटे का रिश्ता, आप भी पढ़ें

भाग्यशाली हैं वे बेटे जिन्होंने अपनी जिंदगी में अपने “बाप” से बड़ा आदमी नही देखा। बाप से बड़ी कोई ताकतवर सत्ता नही। और अभागा है वो बेटा जिसने इस सत्ता को चुनौती न दी हो तो। जिसने अपनी जिंदगी में ये नही किया वो ख़ाक किसी सत्ता को चुनौती देगा। जब आप अपने जीवन के […]

Continue Reading

भोजपुरी साहित्य और संस्कृति के जनक “भोजपुरी के शेक्सपियर” भिखारी ठाकुर की आज है जयंती

1897 का साल था और कुतुबपूर दियरा,जिला छपरा का एक गाँव….एकदम से गरीबों और भिखारियों के मुफीद ही एक ऐसा गाँव जहाँ 18 दिसंबर को एक अनमोल “भिखारी” का जन्म हुआ।एक ऐसे “भिखारी” का जन्म जिसने भोजपुरी साहित्य और संगीत की झोली को अपने योगदान से इतना भरा है कि अगर भोजुरी संगीत और साहित्य […]

Continue Reading