सुर के बादशाह स्वास्तिक भारद्वाज संगीत कला के किसी भी प्रतियोगिता में भाग ले ये उस्ताद परचम जरूर लहराते हैं।जिस सभागर में अपनी कला को दिखाए वो सभागार तालियों से गूंज उठता हैं।
बता दे कि संगीत नाटक अकैडमी की प्रादेशिक शास्त्रीये संगीत प्रतियोगिता में वाल्मीकि सभागार में चार दिवसीय प्रतियोगिता हुआ जिसमें देशभर से चयनित कलाकारों ने भाग लिया इस प्रतियोगिता में नई दिल्ली से आए स्वास्तिक भरद्वाज ने ख्याल में ‘सखी ऐ री पिया बन’ को प्रस्तुत किया। लोगों ने खूब दाद दिया। बता दे कि सूर के बादशाह स्वस्तिक भारद्वाज इस प्रतियोगिता में विजेता रहें।

यह भी बता दे कि उत्तर प्रदेश संगीत नाटक अकादमी की ओर से पांच दिनों तक चली प्रादेशिक शास्त्रीय संगीत प्रतियोगिता के विजेताओं को ‘उल्लास उत्सव’ में पुरस्कृत किया गया।इस उल्लास उत्सव की शुरुआत बाल वर्ग के विजेता स्वस्तिक भारद्वाज ने अपने मधुर आवाज के साथ किया।यह भी बता दे कि इस दौरान स्वस्तिक भारद्वाज ने बड़ा ख्याल ‘काहे सखि कैसे करिए’ कि प्रस्तुति के साथ दर्शकों के मनमोह लिया।इनके मधुर स्वर सुनने के बाद सभागार तालियों से गूंज उठा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here