देश की पूर्व विदेश मंत्री और सूचना प्रसारण मंत्री रहीं सुषमा स्वराज (Sushma Swaraj) का निधन हो गया है. उनकी पहचान बीजेपी की एक प्रखर वक्ता के रूप में रही. वह बातचीत के तरीके और अपने पहनावे के चलते दुनिया भर में भारतीय संस्कृति की छाप छोड़ती थीं. दिलचस्प बात यह है कि सुषमा स्वराज (Sushma Swaraj) का पूरा जीवन सार्वजनिक रहा, लेकिन उनकी निजी जिंदगी से जुड़ी बेहद कम बातें ही लोगों के सामने आईं. अब जब सुषमा स्वराज (Sushma Swaraj) इस दुनिया में नहीं हैं तो उन्हें चाहने वाले उनसे जुड़ी ज्यादा से ज्यादा जानकारी जुटाना चाह रहे हैं. इसी कड़ी में हम आपको उनकी शादी से जुड़ा वाक्या बता रहे हैं.

पहले प्यार हुआ, फिर शादी की
सुषमा स्वराज (Sushma Swaraj) की शादी स्वराज कौशल से हुई थी. स्वराज कौशल देश के जाने-माने वकील हैं. चंडीगढ़ में पढ़ाई के दौरान सुषमा की दोस्ती स्वराज कौशल से हुई थी. शुरुआती दिनों में दोनों के बीच प्यार-वगैरह जैसी कोई बात नहीं थी. दोनों केवल अच्छे दोस्त थे.

वकालत की पढ़ाई पूरी होने के बाद दोनों दिल्ली में प्रक्टिस करने आ गए. यहां आकर दोनों की दोस्ती प्यार में बदल गई. इसके बाद सुषमा ने अपने घर में यह बात बताई. सुषमा के पिता हरदेव शर्मा आरएसएस से जुड़े थे. प्यार की बातें सुनकर वे नाराज हो गए. हालांकि बेटी सुषमा से उनका खास लगाव था, इसलिए वह बेटी की लव मैरिज के लिए मान गए.

सुषमा के पति स्वराज कौशल 1999-2004 तक सांसद भी रह चुके हैं. इसके अलावा वह मिजोरम के राज्यपाल भी रह चुके हैं. इसके बावजूद वह ज्यादा लाइमलाइट में नहीं रहे. उन्हें महज 34 साल की उम्र में देश का सबसे युवा एडवोकेट जनरल बना दिया गया था. स्वराज कौशल 37 साल की उम्र में मिजोरम के गवर्नर भी बन गए थे. वे 1990 से 1993 तक उस पद पर रहे. करवाचौथ पर सुषमा स्वराज (Sushma Swaraj) और उनके पति तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल होती रही हैं.

सोशल मीडिया पर मजाकिया ट्वीट को लेकर भी चर्चा में रहे हैं सुषमा के पति
साल 2017 में स्वराज कौशल का ट्वीट वायरल हुआ था, जिसमें किसी ने उनसे पूछा था कि ‘सर, आप सुषमा स्वराज (Sushma Swaraj) को ट्विटर पर फॉलो क्यों नहीं करते.’ जिसके जवाब में उन्होंने कहा था – ‘क्योंकि मैं लीबिया या यमन में फंसा हुआ नहीं हूं.’

एक अन्य घटना में ट्विटर यूज़र आकाश ने स्वराज से पूछा – सर बैंक की पासबुक को पैन कार्ड के लिए आवेदन में इस्तेमाल कर सकते हैं. इस पर जवाब मिला – ‘कृप्या मुझे इंकम टैक्स कमिश्नर समझने की गलती न करें.’ रविवार को उनके पसंदीदा गायकों के बारे में पूछा गया तो स्वराज का जवाब था – मुकेश, सुरैया और किशोर. गवर्नर और सांसद बनने के बाद मुझे अपनी ही आवाज़ अच्छी लगने लगी.

Sources:-Zee News

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here