सुशील मोदी ने सीएम नीतीश कुमार को बताया बाजीगर, कहा-फूंक मारकर निकाल देते हैं नियुक्ति पत्र

खबरें बिहार की जानकारी

राज्यसभा सदस्य सुशील मोदी ने कहा कि एनडीए सरकार के समय उर्दू शिक्षक से लेकर दरोगा-सिपाही तक, जिन 10 हजार से ज्यादा लोगों की नियुक्ति प्रक्रिया पूरी हो चुकी थी, उन्हीं को दोबारा नियुक्ति पत्र बांटने की बाजीगरी से नीतीश कुमार बेरोजगारों की आंख में धूल झोंक रहे हैं। उन्होंने कहा कि गांधी मैदान में कभी गिलास से रुमाल और खाली बर्तन से कबूतर निकालने की बाजीगरी दिखाने वाले मजमा लगाते थे। आज वहीं नीतीश कुमार फूंक मार कर हजारों नियुक्ति पत्र निकाल दे रहे हैं।

जनवरी में ही नियुक्ति पत्र दिए थे एसपी-डीआइजी ने

मोदी ने कहा कि बुधवार को जिन 10,459 लोगों को दरोगा-सिपाही के पद पर नियुक्ति पत्र दिए गए, उन्हें एक साल पहले जनवरी में ही संबंधित जोन के एसपी-डीआइजी नियुक्ति पत्र दे चुके हैं। उन्होंने कहा कि पुलिस सेवा के लोग जब बिना प्रशिक्षण पूरा किए पूरी वर्दी नहीं पहन सकते, तब नियुक्ति पत्र लेते समय वे वर्दी में कैसे दिखे? यह पहली बार हुआ। उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार और तेजस्वी प्रसाद यादव को उन नियुक्तियों के पत्र बांट कर श्रेय लेने का कोई नैतिक अधिकार नहीं, जिनकी प्रक्रिया नौ अगस्त को सरकार बदलने से पहले शुरू हो चुकी थी। मोदी ने कहा कि महागठबंधन सरकार की पहली कैबिनेट में पहले दस्तखत से 10 लाख युवाओं को “स्थायी नौकरी” देने का जो वादा किया गया था, उसका समय तो अभी तक शुरू ही नहीं हुआ। क्या वे कैबिनेट की सौ बैठकों के बाद गिनती शुरू करेंगे?

महाठगबंधन सरकार में निकली किसी एक नियुक्ति के बारे में बताएं

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डा. संजय जायसवाल ने कहा कि राज्य सरकार नई नौकरियां देने में जीरो और भाजपा काल की नौकरियों का क्रेडिट लेने में हीरो की तरह एक्टिंग कर रही है। उन्होंने बुधवार को जारी बयान में कहा कि नीतीश सरकार पिछले दो महीनों से एनडीए काल की नौकरियों के सहारे, जिस तरह से अपना चेहरा चमकाने की कोशिश कर रही है, उससे साबित होता है कि जनता की आंखों में धूल झोंकने के लिए किसी भी हद को पार कर सकती है।उन्होंने कहा कि राजस्व विभाग, स्वास्थ्य विभाग, पंचायती राज के बाद अब पुलिसकर्मियों की नियुक्ति, यह सब के सब भाजपा काल के समय ही तय हो गयी थी। इनमें से बहुतों को तो दुबारा नियुक्ति पत्र दिया गया है। आज भी जिन पुलिसकर्मियों को नियुक्ति पत्र सौंपा गया है, उनमें आधे से अधिक पुलिस कर्मियों की नियुक्ति छह महीने पहले ही हो गई थी।

नियुक्ति रैली करें लालू- नीतीश : सम्राट चौधरी

विधान परिषद में प्रतिपक्ष के नेता सम्राट चौधरी ने नियुक्ति पत्र बांटने को लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर कटाक्ष किया है। चौधरी ने कहा कि नीतीश और तेजस्वी की गठजोड़ ने जिस तरीके से नियुक्ति घोटाले का खेल किया है, वो बिहार के लिए अभिशाप है। पुलिस विभाग की ओर से जारी बहाली की प्रति को सार्वजनिक करते हुए कहा कि ये सारी नियुक्तियां एनडीए के कार्यकाल में पूरी हो की गई। प्रमाण आनलाइन है, लेकिन नीतीश कुमार और तेजस्वी यादव की महत्वाकांक्षा ने युवाओं का मजाक बनाकर रख दिया है।चौधरी ने कहा कि लालू- नीतीश फर्जी तरीके से नियुक्ती पत्र बाटना छोड़कर दोनों गांधी मैदान में नियुक्ति रैली करनी चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.