सुन्दरकाण्ड का पाठ होगा लाभ ही लाभ । सुंदरकांड की कुछ रोचक जानकारी ।

आस्था

सुन्दरकाण्ड का प्रतिदिन नित्य पाठ करने से प्रत्येक प्रकार के लाभ प्राप्त होते है, सुन्दरकाण्ड के पाठ को श्री रामभक्त हनुमान जी के समक्ष दीपक जला कर करने से अधिक लाभ प्राप्त होता है, माना जाता है की, सुन्दरकाण्ड एक ऐसा पाठ है जो की प्रत्येक प्रकार के संकट तथा बाधाओ से मुक्ति दिलाने में पूर्णतः समर्थ है।

दोस्तों आज हम आपको बताएँगे, ज्योतिष शास्त्र के अनुसार सुन्दरकाण्ड के पाठ से होने वाले लाभ तथा प्रतिदिन पाठ करने का सही तरीका:-

 

सुन्दरकाण्ड के पाठ करने का सही तरीका-

आज के भागदौड़ भरे तथा व्यस्त जीवन में अधिक समय तक पूजा कर पाना संभव नहीं होता, ऐसे में इस पाठ को आप पूरा पढ़ पाए तो अच्छा है, किन्तु यदि ना पढ़ पाए या समय का आभाव हो, तो सुन्दरकाण्ड में कुल ६० दोहे है, प्रत्येक दिवस १०-१० दोहों का आप पाठ करे, यह पाठ आप मंगलवार से प्रारंभ कर, रविवार तक पूर्ण कर सकते है, इस प्रकार आप अनेक बार पाठ कर सकते है, किन्तु यह बात का ध्यान देना अत्यंत आवश्यक है की आप जब तक पाठ करे तब ना तो मांस मदिरा का सेवन करे ना ही अपने घर में मांस मदिरा लाये, जब तक पाठ हो आपको ब्रह्मचारी तथा सदाचारी रहना होगा, अन्यथा आप दोष के भागी बन सकते है।

सुन्दरकाण्ड के पाठ से होने वाले लाभ :-

१) सुन्दरकाण्ड का पाठ करने से विद्यार्थियों को विशेष लाभ प्राप्त होता है, यह पाठ आत्मविश्वास में बढोतरी करता है तथा परीक्षा में अच्छे अंक प्राप्त करने में सहयोग करता है, बुद्धि प्रखर बनाता है, यदि, बच्चे बहुत छोटे है तो उनके माता या पिता उनके लिए सुन्दरकाण्ड का पाठ कर सकते है।

२) सुन्दरकाण्ड का पाठ मन को शांत तथा आनंदमय रखता है मानसिक बाधाओं तथा व्याधियो से यह मुक्ति दिलवाने में चमत्कारी उपाय है।

३) जिन व्यक्ति को गृह कलेश की समस्या है, सुन्दरकाण्ड के पाठ से उनको विशेष फल प्राप्त होता है, घर में शांति बनी रहती है तथा परिजनों में प्रेमभाव बढ़ता है।

४) यदि, घर का मुखिया सुन्दरकाण्ड का पाठ, घर में प्रतिदिन करता है तो घर का वातावरण अच्छा रहता है तथा जीवन में विकास होता है।

५) यदि आपके घर में या आपके अन्दर कोई भी नकारात्मक शक्ति है, तो उसे दूर करने के लिए प्रतिदिन सुन्दरकाण्ड का पाठ अचूक उपाय है।

६) यदि, आप सुनसान जगह पर रहते है तथा किसी अनहोनी का डर लगा रहता हो तो उस स्थान या घर पर प्रतिदिन सुन्दरकाण्ड का पाठ करने से प्रत्येक प्रकार की बाधा से मुक्ति प्राप्त होती है तथा आत्मबल बढ़ता है।

७) जिनको बुरे सपने सताते हो या रात को अनावश्यक डर लगता हो, ऐसे व्यक्ति को सुन्दरकाण्ड का पाठ करने से निश्चित आराम प्राप्त होगा तथा आरामदायक नींद की भी प्राप्ति होगी।

८) जो व्यक्ति उधार से व्याकुल है उनको सुन्दरकाण्ड का पाठ मन में शांति प्रदान करता है तथा उधारी से मुक्ति दिलवाने में भी सहायक होता है।

९) जिस घर में बच्चे माता-पिता के द्वारा दिए गए संस्कार को भूल चुके हो या गलत संगत में लग गए हो तथा माता-पिता का अनादर करते हो, वहा भी सुन्दरकाण्ड का पाठ निश्चित लाभकारी होता है, बच्चो में संस्कार पुनः आने लगता है।

१०) किसी भी प्रकार के मानसिक या शारीरिक रोग से मुक्ति पाने हेतु सुन्दरकाण्ड का पाठ लाभकारी होता है।

११) भूत प्रेत की व्याधि भी सुन्दरकाण्ड के पाठ  से स्वतः ही दूर हो जाती है।

१२) व्यवसाय प्राप्त करने में तथा तरक्की प्राप्त करने में भी सुन्दरकाण्ड का पाठ विशेष फलदाई माना गया है, सुन्दरकाण्ड के पाठ से सफलता प्राप्त होती है।

१३) घर का कोई भी सदस्य घर से अलग हो जाये या कही खो जाये तथा उसकी कोई भी जानकारी प्राप्त ना हो रही हो तो, यदि आप सुन्दरकाण्ड का पाठ करते है तो सम्बंधित व्यक्ति की निश्चित ही रक्षा होगी, तथा आपको चिंता से भी मुक्ति अवश्य प्राप्त होगी।

दोस्तों, ऐसे बहुत से लाभ है, जो सुन्दरकाण्ड के पाठ से प्राप्त होते है, यदि आप सुन्दरकाण्ड का पाठ करना प्रारंभ करेंगे तो अपने जीवन में सकारात्मक बदलाव की अनुभूति करेंगे, जीवन सार्थक बनाएंगे, प्रत्येक दिन को नए उत्साह से जियेंगे तथा प्रत्येक संकट व समस्या से भी मुक्ति प्राप्त करेंगे।।

Leave a Reply

Your email address will not be published.