जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद-370 हटने के बाद पाकिस्तान ने बौखलाहट में भारत से सारे व्यापारिक संबंध एक झ’टके में ख’त्म कर लिए। पाकिस्तान में भारतीय सामानों के बॉयकाट का अभियान चला। दोनों देशों के बीच चलने वाली ट्रेन सेवाएं बंद कर दी गईं।

पाकिस्तान नफरत में यूं अंधा हो गया कि भारतीय फिल्मों को तो अपने यहां बै’न ही कर दी। उन विज्ञापनों पर भी प्रतिबं’ध लगा दिया, जिसमें भारतीय कलाकार नजर आ रहे थे। दरअसल अतंरराष्ट्रीय सीमा पर भारत की तैयारियों के सामने प’स्त पाकिस्तान ट्रेड के मोर्चे पर भारत को नुक’सान पहुंचाना चाहता था। लेकिन 30 दिन गुजरते-गुजरते पाकिस्तान को अपने फैसले का असर समझ में आने लगा। पाकिस्तान के इन प्रतिबंधों का कुछ खास असर भारत पर तो नहीं हुआ, लेकिन पाकिस्तान में त्राहिमा’म की स्थिति पैदा हो गई।

बता दें कि पाकिस्तान की ड्र’ग इंडस्ट्री इस वक्त चौपट हाल में है। पाकिस्तान ने जब भारत से व्यापारिक रिश्ते ख’त्म किए, तो वहां के व्यापारियों को भारत से दवाएं मंगवाना बंद करने की मजबूरी थी। कुछ ही दिनों में पाकिस्तान के अस्पताल में जीवन रक्षक दवाओं की घोर कि’ल्लत हो गई। दवाओं के अभाव में मरीज तड़’पने लगे।

पाकिस्तान को अब अपनी गलती का एहसास हुआ। लाचार पाकिस्तान ने अब भारत से दवाएं मंगाने की अनुमति दे दी है। पाकिस्तानी न्यूज चैनल जिओ टीवी के मुताबिक संघीय सरकार ने सोमवार को भारत से जीवन रक्ष’क दवाओं के आयात को मंजूरी दे दी है, ताकि मरीजों को राहत मिल सके। पाकिस्तान के वाणिज्य मंत्रालय ने वैधानिक नियामक आदेश जारी कर अपने यहां की दवा इंडस्ट्री को इंडिया से मेडिसिन इंपोर्ट करने की इजाजत दे दी है।

Sources:-Live news

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here