चंडीगढ़ की रहने वाली हरभजन कौर ने बेटी रवीना को बातों-बातों में जिंदगी के अधूरे सपने बताएं। उन्होंने कहना था जीवन में सब कुछ मिला, लेकिन कभी खुद कुछ कमा नहीं सकीं। दिल की बात बेटी से करने के बाद हरभजन ने तो बात वही खत्म कर दी, लेकिन उनकी बेटी रवीना के लिए बात अभी शुरू हुई थी। बेटी ने उनके अधूरे सपने को पूरा करने और मां को उस अफसोस से उबारने के लिए स्टार्टअप शुरू किया। और इस तरह कुछ सालों पहले ही बेसन की बर्फी और तरह-तरह के आचार बनाने वाली 94 साल की हरभजन कौर का नाम पूरे चंडीगढ़ में फेमस हो गया।

पहली कमाई 2000 रुपए
रवीना बताती हैं कि बचपन से ही उन्होंने अपनी मां के हाथों से बने खाने को खाया है। वो हमेशा से बहुत अच्छी कुक थी,लेकिन उन्हें कभी अपने इस हुनर को दिखाने का मौका नहीं मिला। उनके खाने को तारीफ तो बहुत मिली लेकिन कभी भी इसके लिए कोई प्लेटफार्म नहीं मिला। इस सफर की शुरुआत के बारे में बताते हुए रवीना कहती है कि शुरुआत में मां ने पास के ही एक लोकल बाजार में दुकान लगाकर बर्फी बेचनी शुरू की, जिसकी पहली कमाई के रूप में उन्हें खुद के कमाएं 2000 रुपए मिले। यह एक हाउसवाइफ के लिए बहुत खुशी की बात थी, जो शायद ही कभी अपने परिवार के बिना घर के बाहर निकली हो।

वापस मिला खोया आत्मविश्वास
इस पहली कमाई ना सिर्फ हरभजन के चेहरे की खोई खुशी वापस लौट आई, बल्कि उनका खोया हुआ आत्म विश्वास भी वापस मिल गया। अब हरभजन हर दसवें दिन अपनी बनाई बर्फी और अचार मार्केट में बेचने जाने लगीं। उम्र के इस पड़ाव पर भी हरभजन ना सिर्फ लगातार काम करती है, बल्कि इस काम को पूरा एंजॉय भी करती है। बाजार में बर्फी बेचने के साथ ही उन्होंने ऑर्डर लेना भी शुरू कर दिया, लेकिन कभी इसे काम का बढ़ा हुआ बोझ नहीं समझा। हरभजन की नातिन ने उनकी बर्फी की ब्रांडिंग और पैकेजिंग में काफी मदद की। उनकी बर्फी के पैकेट की टैगलाइन “बचपन की याद” इसे और भी खास बना देती है।

नाती की शादी में बनाई 200 किलो बर्फी
बाहर के लोग ही नहीं खुद हरभजन की नातिन उनके हाथ की बनी बर्फी की फैन है। दो महीने पहले अपनी शादी में रवीना की बेटी ने अपनी शादी के इंविटेशन कार्ड के साथ नानी की बनाई बर्फी भेजी। नातिन की शादी में हरभजन ने 200 किलो बेसन की बर्फी बनाई। ब्रांड की ग्रोथ के बारे में रवीना कहती है कि पैसों से ज्यादा मां का विश्वास इस ब्रांड की ग्रोथ है। एक ऐसी महिला जो घर के बाहर बैठकर ग्रुप में बात करने से शर्माती थी, वो आज इंटरव्यू दे रही हैं और अपने ग्राहक से ऑर्डर ले रही हैं। बीते चार सालों में वे 500 किलो बर्फी बना चुकी हैं। 1 किलो की बर्फी की कीमत 850 रुपए है। फिलहाल, इसे परिवार के लोग मिलकर चला रहे है, जो जल्द ही और लोगों को काम पर रखने की योजना बना रहे हैं।

Sources:-Dainik Bhasakar

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here