सौरव गांगुली, टीम इंडिया का जाना माना नाम। जिन्हें हमेशा ही टीम इंडिया की दशा और दिशा बदलने के लिए जाना जाएगा। गांगुली को आज अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कहे हुए पूरे 9 साल हो गए हैं। आज के ही दिन सौरव गांगुली ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ नागपुर टेस्ट के साथ अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह दिया था। भारत के लिए 113 टेस्ट में 7,212 रन बनाने वाले गांगुली ने इस मैच में धमाकेदार बल्लेबाजी का मुजाहिरा पेश किया था और पहली पारी में 85 रन बनाकर आउट हुए थे।

उन्होंने अपनी 85 रनों की पारी के दौरान 8 चौके और 1 छक्का लगाते हुए दर्शकों का भरपूर मनोरंजन किया था। गांगुली की विदाई की अच्छी बात ये रही कि उस समय की बढ़ी चढ़ी टीम ऑस्ट्रेलिया को टीम इंडिया ने 172 रनों से मात दी थी। इस तरह से गांगुली ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से शानदार अंदाज में विदाई ली थी।

मैच में टीम इंडिया का प्रदर्शन: टीम इंडिया ने पहले बल्लेबाजी करते हुए सहवाग के 66, सचिन के 109, गांगुली के 85 और एमएस धोनी के 56 रनों की बदौलत पहली पारी में 441 का स्को बनाया था। इस पारी में ऑस्ट्रेलिया के जेसन क्रेजा ने अकेले 215 देकर 8 विकेट झटके थे। जवाब में बल्लेबाजी करने उतरी ऑस्ट्रेलिया टीम ने साइमन कैटिच के 102, माइकल हसी के 90 रनों की बदौलत 355 रन बनाए। इस तरह से टीम इंडिया ने पहली पारी के आधार पर 86 रनों की बढ़त हासिल कर ली।

दूसरी पारी में शून्य पर आउट हुए थे गांगुली: दूसरी पारी में टीम इंडिया की पारी एकदम से भरभरा गई। इस पारी में गांगुली शून्य पर आउट हो गए। लेकिन सहवाग ने 92, धोनी ने 55 और हरभजन सिंह ने 52 रन बनाते हुए टीम इंडिया के स्कोर को 295 तक पहुंचा दिया। इस तरह से ऑस्ट्रेलिया को जीतने के लिए 382 रनों का लक्ष्य मिला। चूंकि, नागपुर की पिच चौथे और पांचवें दिन स्पिनरों के लिए ज्यादा अनुकूल हो जाती है इसलिए हरभजन सिंह और अमित मिश्रा ने बल्लेबाजों के तोते उड़ा दिए।

आखिरकार ने टीम इंडिया ने ऑस्ट्रेलिया को खेल के पांचवें दिन 209 रनों पर ऑलआउट कर दिया और 172 रनों से ये मैच अपने नाम कर लिया। दूसरी पारी में हरभजन ने जहां 4 विकेट झटके वहीं अमित मिश्रा ने 3 विकेट झटके। इस तरह से टीम इंडिया ने सौरव गांगुली को विदाई का अच्छा तोहफा दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here