बिहार का महापर्व छठ पूजा की कुछ इस तरह हुई थी शुरुआत, करने से पूरी होती है मनोकामना

आस्था

पटना: छठ यूं तो पूरे देश में मनाया जाता है, लेकिन यह BIHAR समेत UP के लिए महापर्व है। नहाय-खाए से आरंभ होकर चार दिनों तक चलने वाले इस महापर्व का समापन उदीयमान भगवान भास्कर को अर्घ्य देने के साथ होता है। इसके आरंभ को लेकर कई कहानियां प्रचलित हैं। कहा जाता है कि पहला छठ सूर्यपुत्र कर्ण ने किया था। यह माता सीता तथा द्रौपदी के भी करने की बात कही जाती है।लोक परंपरा के मुताबिक सूर्य देव और छठी मईया का संबंध भाई-बहन का है। इसलिए छठ पर्व के अवसर पर सूर्य की आराधना की जाती है।

chhathpuja 2017

इस तरह शुरू हुई यह पूजाः

अनुश्रुति है कि नि:संतान राजा प्रियवंद से महर्षि कश्यप ने पुत्र की प्राप्ति के लिए यज्ञ कराया तथा राजा की पत्नी मालिनी को आहुति के लिए बनाई गई खीर दी। इससे उन्हें पुत्र की प्राप्ति तो हुई, लेकिन वह मरा हुआ पैदा हुआ। राजा प्रियंवद पुत्र को लेकर श्मशान चले गए और उसके वियोग में प्राण त्यागने लगे।

कहते हैं कि श्मशान में भगवान की मानस पुत्री देवसेना ने प्रकट होकर राजा से कहा कि वे सृष्टि की मूल प्रवृति के छठे अंश से उत्पन्न होने के कारण षष्ठी कही जाती हैं। उन्होंने राजा को उनकी पूजा करने और दूसरों को इसके लिए प्रेरित करने को कहा। उन्होंने ऐसा करने वाले को मनोवांछित फल की प्राप्ति का वरदान दिया। इसके बाद राजा ने पुत्र की कामना से देवी षष्ठी का व्रत किया। उन्हें पुत्र की प्राप्ति हुई। कहते हैं कि राजा ने ये पूजा कार्तिक शुक्ल षष्ठी को की थी। तभी से छठ पूजा इसी दिन की जाती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.