सिवान में बाप-बेटे के डबल मर्डर की पूरी कहानी जान आपको याद आएंगी बालीवुड की पुरानी फिल्‍में

खबरें बिहार की जानकारी

दबंगई और खौफ का बिहार के सिवान जिले से गहरा नाता रहा है। यहां एक नहीं, बल्‍क‍ि कई, यूं कहें कि लगभग हर गांव में पुरानी बालीवुड फिल्‍मों के खलनायक ठाकुर जैसा एक चेहरा है। सिवान के मैरवा थाना के इंग्लिश पंचायत में पिता-पुत्र के डबल मर्डर की कहानी भी कुछ ऐसी ही है। यहां दिन के उजाले में बाप-बेटे को गोली मार दी गई, लेकिन दबंग के डर से उनकी मदद के लिए भी गांव वाले वक्‍त रहते आगे आने की हिम्‍मत नहीं जुटा पाए। कोई उन्‍हें अस्‍पताल ले जाने तक के लिए भी तैयार नहीं दिखा।

केवल 20-25 घरों का गांव है सैनी छापर 

थाना क्षेत्र के इंग्लिश पंचायत में एक छोटा सा टोला सैनी छापर है, जहां करीब 20-25 घर आबाद हैं। इनमें अधिकांश दुबे परिवार ही हैं। गांव के कृष्णा दुबे लंबे समय से पैक्स अध्यक्ष हैं। गांव समाज में लंबे समय से इनका दबदबा रहा है। इस परिवार का वर्चस्व गांव के लोगों पर कायम रहा, लेकिन नई पीढ़ी के युवकों ने धीरे-धीरे इस परिवार के सामाजिक निर्णय पर रोड़ा डालना शुरू कर दिया।

बाइक और पिकअप की टक्‍कर के बाद बढ़ी बात 

आदित्य और उसके भाई मधुसूदन के इनके खिलाफ बोलने के कारण ही वह कृष्णा दुबे के परिवार की आंखों की किरकिरी बन चुके थे। बुधवार की शाम मधुसूदन की बाइक और कृष्णा दुबे के पिकअप में धक्का लगने के बाद मधुसूदन ने मुखर होकर विरोध किया। चालक की खिंचाई की। इसके बाद दोनों परिवार के बीच नोकझोंक हुई। कृष्णा दुबे के भाई वीरेंद्र दुबे और ब्रजेंद्र दुबे को यह नागवार गुजरी। उन्होंने इसे आत्म सम्मान पर आघात का विषय मान लिया।  पिकअप और बाइक में धक्का लगने के बाद हुए विवाद ने पूर्व के जख्मों को कुरेद डाला।

Leave a Reply

Your email address will not be published.