‘कर्मवीर स्पेशल एपिसोड’ में शामिल होंगी अनाथों की मां सिंधुताई, पैर छूकर अमिताभ बच्चन ने किया स्वागत

प्रेरणादायक

बॉलीवुड एक्टर अमिताभ बच्चन का क्वीज शो ‘कौन बनेगा करोड़पति 11’ शुरू हो गया है। इस शो का पहला एपिसोड 19 अगस्त को ऑन एयर हुआ। अब शो का पहला ‘कर्मवीर स्पेशल एपिसोड’ इस हफ्ते  आने वाला है। इस स्पेशल एपिसोड को लेकर दर्शक काफी उत्साहित रहते हैं। दर्शकों को हमेशा से ‘कर्मवीर स्पेशल एपिसोड’ का बेसब्री से इंतजार और जानने के की लालसा होती है कि इस शो में कौन  सम्मानित व्यक्ति भाग लेना वाला है। इसी बीच ‘कर्मवीर स्पेशल एपिसोड’ के फर्स्ट एपिसोड में कौन मेहमान आने वाला है इस बात का खुलासा शो की टीम ने एक वीडियो जारी किया है। इस जारी वीडियो से ये निश्चित हो गया है कि ‘कर्मवीर स्पेशल एपिसोड’  में महाराष्ट्र की वरिष्ठ समाजसेवी सिंधुताई सपकाल आने वाली हैं। जिनका अमिताभ बच्चन पैर छूकर स्वागत करते नजर आने वाले हैं।

आपको बता दें कि  सोनी टीवी के ऑफीशियल इंस्टाग्राम पेज पर आगामी एपिसोड का एक वीडियो शेयर किया गया है जिसमें दिखाया गया है कि अमिताभ बच्चन सिंधु ताई का खूब सम्मान के साथ स्वागत कर उनके पैर छू रहे हैं। जारी हुए इस प्रोमो में आप देख सकते हैं कि कैसे सिंधुताई ने कैसे अपने छोटे से परिवार को एक बड़ा समूह बना कर समाज के आगे लाकर खड़ा कर दिया।  अब इस प्रोमों वीडियो को देखकर हर किसी के मन में सवाल है कि आखिर सिंधुताई सपकाल कौन हैं।

सिंधु ताई के जीवन की कहानी बेहद दर्दनाक है, मगर उससे उबरकर उन्होंने दूसरों की जिंदगी को रोशन करने का जो जज्बा दिखाया, वो हैरान कर देने वाला है। 68 साल की सिंधुताई की लाइफ जितनी दर्दनाक है उतनी ही ज्यादा प्रेरणादायक भी है। आपको बता दें कि सिंधुताई  महाराष्ट्र की मदर टेरेसा बन कही जाती हैं। क्योंकि सिंधुताई पास 36 बहुएं हैं और 272 दामाद। इसमें हैरान होनी बात नहीं है क्योंकि सिंधुताई एक मराठी कार्यकर्ता हैं। सिंधुताई सपकाल अनाथों की मां के रूप में भी जाना जाता है। सिंधुताई एक सामाजिक कार्यकर्ता हैं, जो विशेष रूप से अनाथ बच्चों को पालने के अपने नेक काम के लिए जानी जाती हैं। वह पूरे भारत में 1200 बच्चों को गोद ले चुकी हैं। जिनका वह पूरी तरह से ध्यान रखती हैँ।

महाराष्ट्र के वर्धा जिले के एक सामान्य गोपालक परिवार में सिंधुताई सपकाल को आज भले ही बढ़ती उम्र का शिकार हो गई हैं,लेकिन उनकी फुर्ती और मेहनत देखकर आज भी लोग हैरान हो जाते हैं। रेलवे स्टेशन से पड़े एक मासूम बच्चे को एक नई जिंदगी देकर सिंधुताई ने अपना घर बसा लिया और आज वहीं उनका वह बड़ा बेटा है जो  उनके बाल निकेतन, महिला आश्रम, छात्रावास व वृद्धाश्रम का प्रबंधन देखता है। 

आपको बता दें कि सिंधुताई ने राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय समेत करीब 500 अवॉर्ड पा चुकीं सिंधुताई आज भी अपने बच्चों को पालने के लिए किसी के आगे हाथ फैलाने से नहीं चूकतीं। सिंधुताई को अब तक 750 अवार्ड्स ने नवाजा जा चुका है। उन्हें राषट्रपति सम्मान, अहिल्याबाई पुरस्कार,सहित कई पुरस्कार शामिल हैं। यह वीडियो देखने के बाद सभी को सिंधुताई के बारे में इच्छा बढ़ गई है। उनके जीवन की कई कहानियों को सुनना दिलचस्प होगा।

इतना ही नहीं ताई के जीवन पर ‘मी वनवासी’ धारावाहिक व ‘मी सिंधुताई सपकाल’ फिल्म भी बन चुकी है।

Sources:-Hindustan

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *