साइलेंट लव- बिहार के युवाओं द्वारा बनाई फिल्म जो प्यार और ज़िन्दगी के प्रति आपका नजरिया..

मनोरंजन

बिहार के युवाओं द्वारा बनाई गई एक फिल्म ‘साइलेंट लव’ जल्द ही रिलीज़ हो रही है. पटना में 19 जून को फिल्म का पोस्टर रिलीज़ किया गया था. ‘साइलेंट लव’ फिल्म को अमितेश प्रसुन ने डायरेक्ट किया है.

नीतेश राज और तनुश्री मिश्रा ने फिल्म में लीड रोल किया है. इस फिल्म को 7even consultancy ने वाह ज़िन्दगी एंटरटेनमेंट के बैनर तले प्रोड्यूस किया है. नीतेश की “Silent Love” नाम की यह फिल्म प्यार और जिंदगी को बेहतर तरीके से समझने के उद्देश्य से बनाया गया है.

अमितेश, समाज में होने वाले हर बदलाव को सूक्ष्म नजरीये से देखते हैं. इन्होंने पटना की महिला ऑटो ड्राइवरों पर “वीमेन ऑन व्हील्स” नाम से शार्ट फिल्म बनाई हैं, जो देश ही नहीं दुनिया भर में सुर्खी बटोर चुकी है. इस फिल्म को “दोहा इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल” में जगह दी गई थी. इसके अलावा अमितेश ब्लड की जरुरत को लेकर “ब्लड जिहाद” नाम से भी फिल्म बना चुके हैं जिसकी देश भर में काफी सराहना हुई है.

तनुश्री मिश्रा : तनुश्री पटना विमेंस कॉलेज की छात्रा रही हैं. इन्होने इस फिल्म में अपने किरदार को बखूबी निभाया है.

राष्ट्रीय अवार्ड जीतने वाले नीतेश राज, अपने अलग-अलग एक्टिविटी के लिए जाने जाते हैं…सर्विलांस के लिए कम खर्च में ड्रोन (हेलिकॉप्टर)और इको फ्रेंडली फ्रिज बनाकर देश ही नहीं दुनिया भर में सुर्खी बटोर चुके नीतेश अपने अलग-अलग क्रिएटिविटी के लिए जाने जाते हैं. नीतेश डिफेन्स सेक्टर में KSD टेक्नोलॉजी के लिए भी काम कर चुके हैं.

नीतेश अपने इनोवेशंस के साथ ही सामाजिक कार्यो में भी अहम् भूमिका निभाते हैं. इनका थियेटर और रंगमंच से भी लगाव रहा है. हाल ही में इनकी निर्देशन में बनी फिल्म “रुपया” देश के कई फिल्म फेस्टिवलों में सुर्खियां बटोर चुकी हैं. इस फिल्म में नीतेश ने रुपया की कीमत को बेहतर तरीके से समझाया है.

NCRB के आंकड़े के मुताबिक पिछले 15 साल यानी 2001-2015 में आतंकवाद की तुलना में छह गुना ज्यादा लोग प्यार में किसी ना किसी तरह मारे गये हैं. इसमें ऑनर किलिंग, मर्डर और सुसाइट शामिल है. आंकड़ों पर गौर करे तो लगता है कि प्यार आतंकवाद से भी ज्यादा खतरनाक है. लगभग 20 हजार लोग आतंकवादी गतिविधियों में मारे गये, वहीं एक लाख सतरह हजार सात सौ चौहत्तर (1,17,774) लोग प्यार में किसी ना किसी तरह मारे गये हैं. यह आकड़ा भयावह है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.