शिक्षकों की सही जानकारी नहीं देने पर लगेगा 50 हजार जुर्माना, जानें इसकी वजह

खबरें बिहार की जानकारी

सीबीएसई ने सभी स्कूलों को शिक्षकों के संबंध में सही जानकारी देने को कहा है। स्कूलों द्वारा सही जानकारी नहीं देने से 10वीं व 12वीं के मूल्यांकन में बोर्ड को काफी दिक्कतें होती हैं। इस बार अगर किसी स्कूल ने शिक्षकों के संबंध में सही जानकारी नहीं दी तो उनपर 50 हजार का जुर्माना बोर्ड लगाएगा। इसकी सूचना बोर्ड ने सभी स्कूलों को दी है। ज्ञात हो कि दसवीं और 12वी बोर्ड परीक्षा के साथ मूल्यांकन भी शुरू कर दिया गया है।

बोर्ड की मानें तो हर साल ऐसे स्कूल पकड़ में आते हैं जो उन शिक्षकों को भेजते हैं, जो संबंधित स्कूल में कार्यरत नहीं होते। इससे बोर्ड मूल्यांकन में प्रशिक्षक बनाने में परेशानी होती है। इस बार चूंकि बोर्ड परीक्षा देरी से हो रही है। मूल्यांकन में किसी तरह की दिक्कत नहीं हो, इसके लिए बोर्ड काफी सख्त है।

स्कूल नहीं करते समय से वेबसाइट अपडेट 

स्कूलों को हर महीने स्कूल की वेबसाइट को अपडेट करना है। स्कूल प्रबंधन इसमें काफी लापरवाही बरतते हैं। शिक्षक के सेवानिवृत्त होने, स्कूल छोड़ने आदि जानकारी समय से वेबसाइट पर अपडेट नहीं की जाती है। ज्यादातर स्कूल द्वारा उन शिक्षकों का नाम मूल्यांकन के लिए भेजे देते हैं जो उस स्कूल में कार्यरत भी नहीं होते। जब बोर्ड द्वारा पूछा जाता है तो तरह-तरह के बहाने बनाते हैं। इससे मूल्यांकन में काफी समय लग जाता है।

सीबीएसई के परीक्षा नियंत्रक संयम भारद्वाज ने कहा, ‘इस बार स्कूलों को पहले ही निर्देश दिया गया है। अगर शिक्षकों की सही जानकारी नहीं देंगे तो ऐसे स्कूल पर 50 हजार का जुर्माना लगाया जाएगा। शिक्षकों की सही जानकारी देना स्कूल अनिवार्य करें।’

Leave a Reply

Your email address will not be published.