दिल्ली के सिग्नेचर ब्रिज की खूबसूरती देखिए, जितना खूबसूरत उतना डराने वाला भी है ये

जानकारी

उत्तर पूर्वी दिल्ली और वजीरादाबाद के बीच आवाजाही आसान होने जा रही है। बहुप्रतीक्षित सिग्नेचर ब्रिज तैयार है। रविवार दोपहर बाद मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पुल का उद्घाटन करेंगे। सप्ताह के पहले कार्यदिवस यानी सोमवार से इस पर वाहन फर्राटा भरने लगेंगे। इससे पहले शुक्रवार को उद्घाटन की तैयारियों का जायजा लेने उत्तर पूर्वी दिल्ली के आप प्रभारी दिलीप पांडेय के साथ उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया पहुंचे।

उन्होंने पूरे पुल का जायजा देकर अधिकारियों को बाकी तैयारियां भी जल्द पूरी करने का निर्देश दिया। मनीष सिसाोदिया ने कहा कि पुल तैयार है। इससे लोगों की आवाजाही तो आसान होगी ही, यह पर्यटकों के लिये भी सबसे बेहतरीन जगह बनेगा। रविवार शाम करीब चार बजे मुख्यमंत्री पुल दिल्लीवालों के लिए खोल देंगे।

उद्घाटन के बाद शाम को यहां लेजर शो होगा। दिलीप पांडेय ने इसे उत्तर-पूर्वी दिल्ली की जनता को दीवाली का तोहफा बताया। साथ ही कहा कि यमुनापार का उपेक्षित पड़ा इलाका विकास के पैमाने पर बाकी दिल्ली से जल्द ही टक्कर लेगा।

गौरतलब है कि तत्कालीन मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने 2004 में सिग्नेचर ब्रिज प्रोजेक्ट तैयार किया था। दिल्ली कैबिनेट ने प्रोजेक्ट को 2007 में मंजूरी दी। शुरुआती योजना कॉमनवेल्थ गेम्स से पहले करीब 1131 करोड़ रुपये लागत से प्रोजेक्ट तैयार करने की थी। प्रोजेक्ट में लगातार देरी होती रही। वर्ष 2015 में इसकी लागत करीब 1594 करोड़ रुपये हो गई।

सिग्नेचर ब्रिज करीब 1518.37 करोड़ रुपये की लागत से तैयार किया जाने वाला करीब 251 मीटर ऊंचा ब्रिज होगा। इसके पायलोन की ऊंचाई 154 मीटर होगी। ब्रिज पर 19 स्टे केबल्स हैं। सिग्नेचर ब्रिज का मुख्य आकर्षण उसका मुख्य पायलोन है। पायलोन के चारों तरफ शीशे लगाए गए हैं और लिफ्ट के जरिए जब लोग यहां पर पहुंचेंगे तो उन्हें यहां से दिल्ली का टॉप व्यू देखने को मिलेगा। प्रोजेक्ट की योजना करीब 13 साल पहले शुरू की गयी थी। 2004 में मंजूर इस प्रोजेक्ट को 2010 के कॉमनवेल्थ गेम्स से पहले तैयार होना था।

पश्चिम यूपी वालों को भी मिलेगी राहत
यह पुल वजीराबाद रोड को करनाल बाईपास से जोड़ेगा। इससे न सिर्फ उत्तर-पूर्वी दिल्ली के यमुना विहार, गोकुलपुरी, भजनपुरा और खजूरी की तरफ से मुखर्जी नगर, तिमारपुर, बुराड़ी और आजादपुर जाने वाले लोगों को राहत मिलेगी, बल्कि कश्मीरी गेट से लोनी, सोनीपत, सहारनपुर, बागपत जैसे यूपी के शहरों में जाने वाले ट्रैफिक को जाम में नहीं फंसना पड़ेगा।

वह आसानी से मंजिल की तरफ जा सकेंगे। अभी व्यस्त समय में वजीराबाद पुल पार करने में ही करीब एक घंटे का समय जाया होता है। वहीं दिल्ली भाजपा के अध्यक्ष मनोज तिवारी ने बहुचर्चित सिग्नेचर ब्रिज के उद्घाटन समारोह में उनको न बुलाने पर नाराजगी जताई है। तिवारी ने कहा जिस सिग्नेचर ब्रिज को लेकर मैंने दिन-रात संघर्ष किया। खजूरी खास पर अनशन किया। उसी समारोह में निमंत्रण न देकर कहीं न कहीं क्षेत्र के सांसद होने के नाते मुख्यमंत्री ने प्रोटोकाल का उल्लघंन किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *